मेडिको सिटी को पीपीपी मोड पर मेडिकल हब के रूप में विकसित करेगी झारखंड सरकार

by

Ranchi: झारखंड राज्य में लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है. यहां के मरीजों को इलाज के लिए दूसरे राज्यों का रूख नहीं करना पड़े. अपने ही राज्य में उनका बेहतर इलाज हो, इसके लिए अस्पतालों में अत्याधुनिक संसाधन मुहैय्या कराया जा रहा है. मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने रांची के ईटकी में मेडिको सिटी विकसित किए जाने संबंधी स्वास्थ्य विभाग के प्रेजेंटेशन कार्यक्रम के दौरान कही.

उन्होंने कहा कि मेडिको सिटी को मेडिकल हब के रूप में विकसित किया जाएगा. यहां मल्टी और सुपर स्पेशियलिटी चिकित्सा सुविधा से जुड़ी सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी, जिसका फायदा राज्यवासियों को होगा.

इसे भी पढ़ें: स्‍कूली बच्चों की कॉपी जेल के बंदी बनाएंगे, सीबीएसई स्कूल 2021 सत्र से शुरू करने का निर्देश

मेडिको सिटी प्रोजेक्ट में किया गया है बदलाव

रांची के ईटकी स्थित टीबी सेनेटोरियम की लगभग 70 एकड़ जमीन में पीपीपी मोड पर मेडिको सिटी को विकसित करने की प्रक्रिया लंबे समय से चल रही है, लेकिन अब तक इस दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा सका है. इस वजह से मेडिको सिटी प्रोजेक्ट में कुछ बदलाव किए गए हैं, ताकि वर्तमान परिस्थितियों में इसे पीपीपी मोड पर विकसित करने की दिशा में निजी कंपनियों और संस्थानों को आकर्षित किया जा सके. इन्हें राज्य सरकार द्वारा कई रियायतें भी दी जाएंगी.

मेडिको सिटी को अब इस तर्ज पर विकसित किया जाएगा

टीबी सेनेटोरियम की जमीन पर मेडिको सिटी को चार प्रोजेक्ट के आधार पर विभाजित कर विकसित किया जाएगा. इसके तहत प्रोजेक्ट ए में मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल, प्रोजेक्ट बी में मेडिकल एजुकेशनल हब, प्रोजेक्ट सी में सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल और प्रोजेक्ट डी में आयुर्वेद सेंटर बनाया जाएगा.

इसे भी पढ़ें: लोजपा प्रदेश अध्यक्ष को उग्रवादी धमकी दिये जाने के बाद भाजपा हुआ हेमंत सरकार पर हमलावर

मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल में होगी ये व्यवस्थाएं

मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल के निर्माण के लिए 350 करोड़ के का बजट होगा. इस मेडिकल कॉलेज में 85 प्रतिशत सीट झारखंड डोमिसाइल के विद्यार्थियों के लिए आरक्षित होगा. इसके अलावा 20 प्रतिशत सीटों  पर विद्यार्थियों का नामांकन स्वास्थ विभाग द्वारा तय किए गए फीस के आधार पर होगा. वहीं मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 30 प्रतिशत बेड सिलेक्ट किए गए पर मरीजों के लिए आरक्षित होगा.

मेडिकल एजुकेशनल हब में इन कोर्सेज की होगी पढ़ाई

मेडिकल एजुकेशन हब के तहत नर्सिंग में बीएससी और एमएससी की पढ़ाई होगी. बीएससी नर्सिंग में 100 सीटें और एमएससी नर्सिंग में 60 सीट होगी. इनमें से 15 प्रतिशत सीटें राज्य सरकार द्वारा चयनित किए गए विद्यार्थियों के लिए आरक्षित होगी. इसके निर्माण पर लगभग 350 करोड़ पर खर्च किए जाएंगे.

इसे भी पढ़ें: झारखंड में किसानों के लिए हेमंत सरकार के खिलाफ आंदोलन करेगी भाजपा

सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल के लिए 178 करोड़ रुपए का बजट

मेडिको सिटी में सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल और अन्य सुविधाओं के लिए 178 करोड़ का बजट है. यहां 30 प्रतिशत बेड वैसे मरीजों के लिए आरक्षित होंगे जिनका मुफ्त इलाज किया जाना है.

आयुर्वेद सेंटर में क्या होगी व्यवस्था

मेडिको सिटी में 50 करोड़ रुपए की लागत से आयुर्वेदा सेंटर विकसित किया जाएगा. यहां भी 15 प्रतिशत सीटें वैसे विद्यार्थियों के लिए आरक्षित होंगी, जिनका चयन राज्य सरकार द्वारा किया गया हो. यहां इलाज के लिए 30 प्रतिशत बेड राज्य कोटा के लिए आरक्षित होंगी.

इस मौके पर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव नीतिन मदन कुलकर्णी उपस्थित थे.

2 thoughts on “मेडिको सिटी को पीपीपी मोड पर मेडिकल हब के रूप में विकसित करेगी झारखंड सरकार”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.