साहिबगंज में 12 टुकड़ों में मिला युवती का शव, पति हिरासत में

0
4
साहिबगंज में 12 टुकड़ों में मिला युवती का शव, पति हिरासत में
साहिबगंज में 12 टुकड़ों में मिला युवती का शव, पति हिरासत में

Sahibganj/Jharkhand: दिल्ली में ‘श्रद्धा वॉल्कर हत्याकांड’ की लोमहर्षक वारदात को देश भूला भी नहीं है कि झारखंड के साहिबगंज जिले के हत्याकांड ने प्रदेश को रुला दिया. साहिबगंज के बोरियो में शादीशुदा रबिका पहाड़िन ( 22 वर्ष) को कटर से 12 टुकड़ों में काट दिया गया. वह गोंडा पहाड़ की रहने वाली थी. शादी के बाद पति दिलदार अंसारी के साथ बेलटोला में रह रही थी. पुलिस ने उसके पति को हिरासत में ले लिया है.

पुलिस ने शनिवार देरशाम रबिका पहाड़िन के शव को 12 हिस्सों में बोरियो थाना क्षेत्र के संथाली मोमिन टोला में एक पुराने बंद घर के बाहर से बरामद किया. रबिका के कटे अंगों को कुत्ते घसीट रहे थे. साहिबगंज के एसपी अनुरंजन किस्पोट्टा ने रविवार सुबह घटना की पुष्टि की.

उन्होंने कहा कि अभी तक की जानकारी के मुताबिक दिलदार अंसारी ने रुबिका से दूसरी शादी की थी. पिछले कुछ दिन से रुबिका गायब थी. शनिवार शाम रुबिका के परिवार के सदस्यों ने बोरियो थाना को उसके लापता होने की जानकारी दी. शनिवार रात एक महिला के शरीर के टुकड़े बरामद किए गए. महिला की हत्या के बाद उसके शव को इलेक्ट्रिक कटर जैसे किसी धारदार यंत्र से काटा गया है. रविवार सुबह से सर्च ऑपरेशन जारी है. इसमें डॉक्टर की टीम को भी शामिल किया गया है. साथ ही डॉग स्क्वायड भी शामिल है.

एसपी ने बताया कि रुबिका के प्रेमी दिलदार के सभी संबंधियों के घर पर छापा मारा गया है. दिलदार के परिजनों की निशानदेही पर मुख्य आरोपित दिलदार के मामा मो. मोइनुल अंसारी के घर से हत्या में प्रयुक्त दो धारदार हथियार बरामद किए गए हैं. हालांकि मो. मोइनुल अंसारी मौके से फरार हो गया. शव के बरामद हिस्सों की बोरियो सीएचसी प्रभारी डॉ. सलखु चंद हांसदा और डॉ. विनोद कुमार बोरियो की टीम ने मानव अंगों के रूप में पहचान की है. घटनास्थल से एक अंगुली, एक कंधा, एक कूल्हा, एक हाथ, पीठ का निचला हिस्सा, फेफड़ा एवं पेट के अंश मिले हैं.

उल्लेखनीय है कि कुछ समय पहले दिल्ली के छतरपुर इलाके में किराये के मकान में लिव इन में रह रहे आफताब पूनावाला ने झगड़े के बाद अपनी लिव इन पार्टनर श्रद्धा वॉल्कर की बेहरमी से हत्या कर दी थी. उसने श्रद्धा के शव के 35 टुकड़े किए और उनको 18 दिन तक फ्रिज में रखा. वह धीरे-धीरे शव के टुकड़ों को जंगल में फेंकता रहा.

Leave a Reply