Friendship Day Special: कन्‍हैया कुमार अपने दोस्‍तों को दे रहे हैं धोखा!

हैप्‍पी फ्रेंडशिप डे. क्‍या आप फेसबुक, इंस्‍टाग्राम, ट्वीटर जैसे सोशल मीडिया से एक दिन के लिए भी दूर रह सकते हैं. आप सोशल मीडिया पर अपने दोस्‍तों बिना रुबरु हुए कितने दिनों तक रह सकते हैं. क्‍या आपको पता है कि बिहार के बेगुसराय का एक ऐसा कथित यूथ आइकन है जो पिछले दो महीनों से अपने लाखों दोस्‍तों को सोशल मीडिया पर धोखा दे रहा है. वह कोई और नहीं है बल्कि विवादित मुद्दों पर नमक-मिर्च डालने वाला कन्‍हैया कुमार है.

कन्‍हैया कुमार को आज हिन्‍दी भाषी प्रदेशों का हर युवा जानता है. उन्‍होंने बीते लोकसभा चुनाव 2019 लड़ी और बीजेपी उम्‍मीदवाार गिरिराज सिंह को कड़ी चुनौती थी. इस दरम्‍यान सोशल मीडिया के जरिए 30 घंटे में 30 लाख रुपये की क्राउड फंडिंग की.

ट्वीटर में कन्‍हैया के 7 लाख से अधिक फॉलोवर्स हैं. फेसबुक में 6 लाख से अधिक दोस्‍त हैं. इसी तरह इंस्‍टा में भी ढाई लाख से अधिक फॉलोवर्स हैं.

लोकसभा चुनाव खत्‍म होने के बाद कन्‍हैया सोशल मीडिया के लाखों फॉलोवर्स और दोस्‍तों को भूल गये हैं. पिछले दो महीनों से वह सोशल मीडिया पर कोई जवाब नहीं दे रहे हैं. राकेट की गति से भी तेजी से क्राउड फंडिंग करने वाला कन्‍हैया सोशल मीडिया पर अपने दोस्‍तों को जवाब नहीं दे रहे हैं.

फेसबुक पेज पर कन्‍हैया का आखिरी पोस्‍ट 30 मई 2019 का है. ट्वीटर पर कन्‍हैया ने आखिरी बार 27 मई 2019 को ट्वीट किया है. इस्‍टा पर उन्‍होंने अपनी आखिरी तस्‍वीर नोबेल विजेता डॉ अर्मत्य सेन के साथ वाली तस्‍वीर पोस्‍ट की है.

हद तो तब हो गई जब एनडीटीवी के वरिष्‍ठ पत्रकार रवीश कुमार को एशिया का सबसे बड़ा सम्‍मान मैग्‍सेसे पुरस्‍कार के लिए कन्‍हैया ने बधाई देने की जहमत नहीं उठाई. जबकि रवीश कुमार अक्‍सर कन्‍हैया की तरफदारी करते रहे हैं. दोनों ही बिहार के हैं. लोकसभा चुनाव के दौरान रवीश ने कन्‍हैया के लिए बेगुसराय जाकर स्‍पेशल ग्राउंड रिपोर्टिंग की थी.

ये सब जानते हैं कि लोकसभा चुनाव के दौरान स्‍वरा भाष्‍कर, प्रकाश राज, शबाना आजमी, जावेद अख्‍तर जैसे कई सिने स्‍टार और सेलिब्रेटियों ने बेगुसराय जाकर चुनावी सभा की और कन्‍हैया कुमार के लिए चुनाव प्रचार किया था.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.