आजसू के पूर्व विधायक राजकिशोर महतो का निधन, सुदेश बोले- अपूरणीय क्षति

by

Ranchi: झारखंड के पुरोधा स्वर्गीय बिनोद बिहारी महतो के पुत्र और टुंडी से आजसू के पूर्व विधायक राजकिशोर महतो का निधन हो गया है. बुधवार रात करीब 8.20 बजे उनकी धनबाद के जालान अस्पताल में अपनी आखिरी सांस ली. आजसू के केंद्रीय अध्‍यक्ष सुदेश महतो ने राजकिशोर महतो के निधन पर गहरा शोक व्‍यक्‍त किया है.

इसे भी पढ़ें: आजसू बैठक में12 बिंदुओं पर चर्चा, सुदेश बोले- सरकार को आईना दिखाएगी पार्टी

आजसू प्रमुख सुदेश महतो ने कहा- अपूरणीय क्षति

सुदेश महतो ने अपने शोक संदेश में कहा है कि झारखंड आंदोलन के प्रणेता बिनोद बिहारी महतो जी के पुत्र, हमारे अभिभावक राजकिशोर महतो के निधन की खबर से मन बेहद विचलित है. झारखंड आंदोलन से जुड़े राजकिशोर बाबू जमीनी विषयों, सवालों और मुद्दों पर अच्छी समझ रखते थे. वे कानून के जानकार थे और सामाजिक तानाबाना के साथ रजनीति में भी उन्होंने खासी लोकप्रियता हासिल की.

2014 में वे आजसू पार्टी के टिकट पर ही टुंडी से चुनाव जीते. इस दौरान उनसे सीखने-समझने का भी मौका मिला. सार्वजनिक जीवन में वे बेबाक रहे और हमेशा झारखंड तथा झारखंडी विषयों को लेकर मुखर रहे. सुदेश महतो ने कहा है कि उनके निधन से आजसू पार्टी के साथ झारखंड की राजनीति को अपूरणीय क्षति पहुंची है.        

आजसू प्रमुख ने अपने शोक संदेश में कहा है कि इस दुःख की घड़ी में पूरी पार्टी राजकिशोर बाबू के परिजनों के साथ खड़ी है. परमपिता परमेश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे और परिजनों को इस अपार दुःख को सहने की शक्ति प्रदान करे.

इसे भी पढ़ें: सीएम हेमंत सोरेन ने अफसरों को बताया राजस्व दोगुना करने का फार्मूला

सीएम ने ट्वीट कर जताया शोक 

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने टुंडी विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक राजकिशोर महतो के निधन पर दुःख व्यक्त किया है. मुख्यमंत्री ने परमात्मा से दिवंगत आत्मा की शांति एवं शोक संतप्त परिजनों को दुःख की इस घड़ी को सहने की शक्ति देने की प्रार्थना की है. 

इसे भी पढ़ें: रांची में धूम्रपान पर कटे 186 चालान, जुर्माना वसूली के लिए बना 13 छापामारी दल

फेफड़े में भर गया था पानी

आजसू नेता राजकिशोर महतो को मंगलवार को ही तबीयत बिगड़ने पर जालान अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इसके पहले भी सप्ताह भर पूर्व उन्हें सेंट्रल अस्पताल में भर्ती कराया गया था. तब वे ठीक होकर घर लौट गए थे, लेकिन मंगलवार रात भी उनकी तबीयत बिगड़ गई.

मीडिया समाचारों के अनुसार डॉक्‍टरों ने बताया कि उनके फेफड़े में पानी भर गया था. डॉक्‍टरों ने काफी कोशिश की लेकिन उनकी स्थिति बिगड़ती चली गई. आखिरकार रात आठ बजकर 20 मिनट पर उन्होंने आखिरी सांस ली.

राजकिशोर महतो महतो का कोविड-19 जांच भी कराया गया था. हालांकि वह निगेटिव निकले थे.

इसे भी पढ़ें: शाहरुख प्रशस्ति पत्र और प्रतीक चिन्ह से सम्मानित

राजकिशोर महतो का परिचय

राजकिशोर महतो आइएसएम धनबाद से पास आउट थे. उन्होंने विधि की भी पढ़ाई की थी. वे पेशे से अधिवक्ता थे. वर्ष 1991 में झारखंड मुक्ति मोर्चा के संस्थापक अध्यक्ष व अपने पिता बिनोद बिहारी महतो के निधन के बाद उन्होंने राजनीति में कदम रखा.

छात्र जीवन में भी झारखंड मुक्ति मोर्चा के आंदोलनों में शरीक होते रहे थे. 1991 में अपने पिता के निधन से खाली हुए गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र से उन्होंने चुनाव लड़ा और जीते भी. बाद में वे सिंदरी व टुंडी विधानसभा क्षेत्र के विधायक भी चुने गए. वे झारखंड विधि आयोग के अध्यक्ष भी रहे. फिर भाजपा होते हुए महतो आजसू में शामिल हुए और पिछले विधानसभा चुनाव में उन्हें मथुरा प्रसाद महतो से करारी शिकस्त मिली.

1 thought on “आजसू के पूर्व विधायक राजकिशोर महतो का निधन, सुदेश बोले- अपूरणीय क्षति”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.