Delhi Chalo: कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को बातचीत के लिए बुलाया

by

New Delhi: केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मंगलवार को विज्ञान भवन में बातचीत के लिए किसान संगठनों के सदस्यों को आमंत्रित किया है.

नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, “ठंड और कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए हमने किसान यूनियनों के नेताओं को निर्धारित 3 दिसंबर की बैठक से पहले चर्चा के लिए आमंत्रित किया है.”

उन्होंने आज सुबह ट्वीट किया, ‘मैं किसान संगठनों के प्रतिनिधि को आमंत्रित करता हूं कि वे नए कृषि कानूनों के बारे में उनकी शिकायतों पर चर्चा करें.’

इसे भी पढ़ें: कपिल शर्मा शो से भारती सिंह के आउट होने की खबरों के बीच को-एक्‍टर्स ने कही बड़ी बात

प्रदर्शनकारी किसानों द्वारा बुराड़ी जाने के बाद बातचीत शुरू करने की केंद्र सरकार की पेशकश को खारिज कर देने के एक दिन बाद सरकार की तरफ से यह बयान आया है. किसानों ने राष्ट्रीय राजधानी के सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर धरना प्रदर्शन जारी रखा है.

Read Also  जो बाइडेन बने अमेरिका के 46 वें राष्‍ट्रपति, मौके पर ट्रंप ने कही ये बात

सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, आंदोलनकारी किसानों के प्रतिनिधियों ने कहा कि वे “निर्णायक” लड़ाई के लिए दिल्ली आए हैं और प्रधानमंत्री मोदी से उनकी “मन की बात” सुनने के लिए कहा है.

शुक्रवार को हुई हिंसा के बाद किसी भी अप्रिय घटना की सूचना नहीं देने के साथ ही पंजाब और हरियाणा के किसानों द्वारा शांतिपूर्वक प्रदर्शन जारी रहा.

इसे भी पढ़ें: JNU की पूर्व छात्रा शेहला रशीद के पिता ने डीजीपी को लिखा पत्र- बेटी देशद्रोही

भारतीय किसान यूनियन (डकौंडा) के महासचिव जगमोहन सिंह ने सिंघु बॉर्डर पर किसानों के प्रतिनिधियों द्वारा एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “हमारी मांग बिना शर्त के और गैर-समझौता योग्य है.”

Read Also  एसोटेक हिल्स 30 माह में पूरी नहीं कर पाई पीएम आवास योजना के तहत पहला हाउसिंग प्रोजेक्ट, अब लॉकडाउन का कर रही है बहाना

उन्‍होंने कहा, “हम एक निर्णायक लड़ाई लड़ने के लिए यहां आए हैं … हम किसान प्रधानमंत्री से ‘मन की बात’ सुनने के लिए दिल्ली आए हैं, अन्यथा सरकार और सत्ता पक्ष को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी.”

किसान तीन कानूनों – किसान (सशक्तीकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन और फार्म सेवा अधिनियम, 2020, किसान व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम 2020 का विरोध कर रहे हैं, जो राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की सहमति के बाद 27 सितंबर से प्रभावी हुआ.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.