आदिवासियों में होने वाले सिकल सेल आनुवांशिक बीमारी के उन्‍मूलन के लिए मुहिम शुरू

by

Khunti: विश्व सिकल सेल दिवस के अवसर पर आयोजित दूसरे राष्ट्रीय सिकल सेल वर्चुअल कॉनक्लेव को संबोधित करते हुए जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हमारा मंत्रालय सिकल सेल अनुवांशिक समस्या के समाधान के लिए निरंतर कार्य कर रहा है. इसमें परिवार एवं स्वास्थ्य कल्याण मंत्रालय और अन्य कई प्रमुख संस्थाएं हमारे साथ कार्य कर रही है.

सिकल सेल अनुवांशिक समस्या का अन्त ही हमारा ड्रीम और प्राथमिक प्रोजेक्ट है. हम इस बीमारी से आदिवासियों को निजात दिलाने के लिए प्रयासरत हैं. भविष्य में हम नए प्रयासों के द्वारा इस लाईलाज अनुवांशिक समस्या का समाधान करने के लिए कोशिश कर रहे हैं.

सिकल सेल बीमारी (एससीडी), जो विरासत में मिला सबसे प्रचलित रक्त विकार है, भारत में व्यापक रूप से कई जनजातीय समूहों में पाई जाती है और यह कई राज्यों में स्वास्थ्य के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है. भारत में यह बीमारी मुख्य रूप से झारखंड, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिमी ओडिशा, पूर्वी गुजरात और उत्तरी तमिलनाडु व केरल में नीलगिरी पहाड़ियों के कुछ इलाकों में प्रचलित है.

Read Also  हेमंत सरकार गिराने की साजिश में शामिल कांग्रेसी विधायकों के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई

आज अर्जुन मुंडा ने वर्चुअल माध्यम से सिकल सेल बीमारी की जांच के लिए खूंटी (झारखंड) और कांकेर (छत्तीसगढ़) में मोबाइल वैनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इस कॉनक्लेव को जनजातीय कार्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की), नोवार्टिस, अपोलो हॉस्पिटल, पिरामल फाउंडेशन, जीएएससीडीओ और एनएएससीओ के साथ भागीदारी में आयोजित किया गया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.