अशोक नगर रांची की ट्रांसफार्मर खराब हो तो चंद घंटे में बदलने का इंतजाम, चिटोडीह गांव की बिजली कब ठीक होगी अधिकारियों को पता नहीं

by

Ranchi: यास तूफान का प्रकोप पूरे झारखंड में है. इस दौरान बिजली व्‍यवस्‍था खराब होने पर उसे ठीक करने के लिए खास निर्देश दिए गए हैं. कोविड 19 वायरस संक्रमण को देखते हुए सरकार ने कहीं भी बिजली व्‍यवस्‍था चरमराने पर उसे तुरंत ठीक करने को कहा है, ताकि कोरोना के खिलाफ जंग प्रभावित नहीं हो. अभी पूरे झारखंड में कोरोना वैक्‍सीनेशन का काम चल रहा है. 18 प्‍लस लोगों को लॉनलाइन रजिस्‍ट्रेशन और स्‍लॉट बुकिंग से ही वैक्‍सीन लग सकता है. लेकिन ग्रामीण इलाकों में यास तूफान की वजह से बिजली व्‍यवस्‍था चरमारा गई है. कई दिनों तक बिजली गुल होने की वजह से लोगों का मोबाइल फोन चार्ज नहीं हो पा रहा है. गांव के लोग न तो फोम चार्ज कर पा रहे हैं और न वैक्‍सीन लगाने के लिए स्‍लॉट बुक कर पा रहे हैं.

Read Also  सन्नी कच्छप बनी कांके दक्षिणी पंचायत की उपमुखिया

बिजली विभाग की उपेक्षा के बाद चंदा कर रहे हैं गांववाले

बुडूं प्रखंड के चिटोडीह गांव में ट्रांसफार्मर 2 दिनों से खराब है. गांव के लोगों ने इसकी लिखित सूचना स्‍थानीय बिजली ऑफिस को दे दी है. कोरोना संक्रमण के इस दौर में यहां की बिजली को ठीक नहीं किया गया है. अब लोग आपस में चंदा इकट्ठा करके गांव का ट्रांसफार्मर मरम्‍मत करने की कोशिश में जुटे हैं, ताकि मोबाइल चार्ज के साथ-साथ किसानों का खेती-बारी भी हो सके.

इधर बुंडू के असिस्‍टेंट इंजीनियर एस बनर्जी ने बताया कि विभाग में ट्रांसफर का अभाव है. चिटोडीह गांव में ट्रांसफॉर्मर खराब होने की शिकायत मिली है. इसे विभाग को अवगत करा दिया गया है. जब हमारे पास ट्रांसफर्मर आएगा गांव में बिजली चालू करा दिया जाएगा. पूछने पर कब तक बिजली ठीक हो सकेगी, इस पर सहायक इंजीनियर ने बताया कि यह बताना संभव नहीं है.

Read Also  ओड़िशा दौरे पर युवा राजद प्रदेश प्रभारी:विशु विशाल यादव

अशोक नगर में चंद घंटे में ट्रासफॉर्मर ठीक करने की तैयारी

रांची का अशोक नगर शहर का सबसे बड़ा रईस इलाका है. यहां पर आईएएस, आईपीएस जैसे बड़े-बड़े अधिकारी रहते हैं. यहां बिजली बहुत कम ही कटती है. इस ऐरिया में कभी ट्रांसफारमर खराब हुआ तो उसे चंद घंटे में बदल दिया जाता है. अशोक नगर के बिजली कार्यालय के असिस्‍टेंट इंजीनियर सुजीत कुमार ने बताया कि यास तुफान से निपटने के लिए तैयारी पूरी है. अतिरिक्‍त मैनपावर और संसाधनों की कोई कमी नहीं है. अगर कहीं ट्रांसफॉर्मर बदलने की जरूरत पड़ती है तो दो से तीन घंटे में ट्रांसफॉर्मर बदल सकते हैं. कोकर सर्कल ऑफिस में ट्रांसफर्मर का स्‍टॉक पूरा है कोई कमी नहीं है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.