Dharampal Gulati पाकिस्तान से भारत आए और दुनिया में किया MDH मसालों से अरबों का कारोबार

by

New Delhi: मसालों की दुनिया का बादशाह कहे जाने वाले महाशय धर्मपाल गुलाटी ने आज 98वें साल की उम्र में निधन हो गया. उनकी मौत हार्ट अटैक की वजह से सुबह करीब 6 बजे हुई.

दुनिया भर में कोरोना महामारी से कई लोग मर रहे है और कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा बुर्जुग लोग ही प्रभावित हो रहे है. लेकिन महाशय धर्मपाल गुलाटी 98वें के उम्र में ही इतने फीट थे कि उन्होंने कोरोना का भी मात दे दी थी. इनके बारे में आपको शायद ही पता होगा कि ये पाकिस्तान से भारत आये थे.

Read Also  मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को कोर्ट में लगानी होगी हाजिरी

मसालों से 2 हजार करोड़ का कारोबार

इन्होने अपनी कड़ी मेहनत के बलबूते पाकिस्तान से लेकर भारत तक मसालों को बेच कर अरबों की संपत्ति बनाई. आज की तुलना में बात करे तो धर्मपाल गुलाटी की कुल संपत्ति 2 हजार करोड़ की हो चुकी है. उनकी कंपनी हर वर्ष करोड़ों रुपये का व्यापार करती है.

आपको बता दें कि धर्मपाल गुलाटी जब पाकिस्तान से भारत आये थे तब वह अपने पिता से सिर्फ 1500 रुपये लेकर ही आये थे. अब इस 1500 रुपये में दिल्ली आकर पैसा कमाना सबसे बड़ी चुनौती थी. धर्मपाल ने पिता से मिले 1500 रुपये में से 650 रुपये का घोड़ा और तांगा खरीदा. जिससे दो वक्त की रोटी कमा कर खा लेते थे. कुछ दिनों बाद उन्होंने तांगा भाई को दे दिया.

Read Also  मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को कोर्ट में लगानी होगी हाजिरी

धर्मपाल गुलाटी की एमडीएच मसालों की धूम

करोलबाग में एक छोटी सी दुकान लेकर मसाले बेचना शुरू कर दिया. जिसके बाद देखते ही देखते धर्मपाल की करोलबाग की वह छोटी सी दुकान बहुत लोकप्रिय हो गई. इसके बाद धर्मपाल गुलाटी ने मसालों का व्यापार करना शुरू कर दिया. जो कि आज दुनिया भर में धर्मपाल गुलाटी की एमडीएच मसाले धूम मचा रही है.

तांगेवाले धर्मपाल गुलाटी कैसे बने मसालों से अरबपति

धर्मपाल गुलाटी की एक तांगे वाले से अरबपति बनने की उनकी ये अदभुत कामयाबी 60 सालों की कड़ी मेहनत का नतीजा है. यही वजह है कि दुनिया के सौ से ज्यादा देशों में आज उनके मसालों का इस्तेमाल किया जाता है. इसके साथ ही धर्मपाल ने देश और विदेश में कई मसालों की कंपनियां भी खोली हुई है. जिससे उस कंपनी से निर्माण मसाले आज दुनिया भर में इस्तेमाल किये जाते थे.

2 thoughts on “Dharampal Gulati पाकिस्तान से भारत आए और दुनिया में किया MDH मसालों से अरबों का कारोबार”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.