“देश का डॉक्टर” ने आभा कार्ड बनाने के लिये आशा कर्मियों को तैयार किया

New Delhi: हेल्थ टेक “देश का डॉक्टर” एप ने केवल 5 महीनों के भीतर ही सफलतापूर्वक डेढ़ लाख से अधिक लोगों के लिये आभा आईडी कार्ड जारी किये. दरअसल, अप्रैल 2022 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण(एनएचए), केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने “देश का डॉक्टर” को भारतीय नागरिकों के लिये आयुष्मान भारत स्वास्थ्य खाता(आभा) कार्ड बनाने के लिये अधिकृत किया.

हेल्थ टेक स्टार्टअप के अच्छे प्रदर्शन ने संबंधित अधिकारियों को इसके लिये प्रेरित किया कि वे पायलट प्रोजेक्ट के तहत उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में मान्यता प्राप्त आशा कार्यकर्ताओं से जुड़कर लोगों के घरों तक आभा आईडी कार्ड मुहैया कराने की अनुमति दें.

गौरतलब है कि आभा आईडी, सभी के लिए मोबाइल एप्लिकेशन पर आधार केवाईसी के माध्यम से केवल 30 सेकंड में मुफ्त में जारी की जाएगी. पायलट प्रोजेक्ट 5 सितंबर, 2022 से शुरू किया जा रहा है.

“देश का डॉक्टर”, लोगों को संपूर्ण डिजिटल स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है, जिसमें एलोपैथी. होमेयोपैथी एवं आयुर्वेदिक उपचार शामिल हैं. यह डॉक्टर की ऑनलाइन कंसल्टेंसी से लेकर डायग्नोस्टिक एवं अस्पताल में भर्ती होने तक की व्यापक देखभाल प्रबंधन सेवाएं उपलब्ध कराता है.

इसके साथ ही यह हेल्थ टेक एप हॉस्पीटल से डिस्चार्ज होने के बाद घर तक दवाईयां मुहैया कराना भी सुनिश्चित करता है.

सभी इलाज पद्धतियों को लोगों के लिये एक मंच पर उपलब्ध कराने के साथ सरकार के आभा हेल्थ कार्ड प्रोजेक्ट को बढ़ाना इस हेल्थ टेक एप “देश का डॉक्टर” को सबसे नवीन एवं अनोखा स्वास्थ्य सेवा प्रदाता बनाता है. हेल्थ टेक कंपनी इस एप के जरिये कई नवीन हेल्थकेयर प्रबंधन समाधान लेकर आई है.

इस संबंध में “देश का डॉक्टर” के सीईओ, अनुराग पांडे ने जानकारी देते हुए कहा कि “राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण(एनएचए) ने हमें आभा हेल्थ आईडी कार्ड बनाने की जिम्मेदारी दी थी. हमने सिर्फ 5 महीने के भीतर ही डेढ़ लाख से अधिक के आंकड़े को पार कर लिया है, और इसकी संख्या दिन प्रति-दिन बढ़ती जा रही है.

इस प्रक्रिया को बढ़ाने और तेज करने के लिए, हमने संबंधित अधिकारियों की अनुमति से, आशा कार्यकर्ताओं को आभा आईडी जारी करने संबंधी प्रशिक्षण देने के लिए गाजियाबाद में एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया है. आशा कर्मी जैसे-जैसे समाज के लोगों के साथ निकटता से जुडेंगी, आभा के लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाना आसान हो जाएगा.

आभा की डिजिटल हेल्थकेयर नेटवर्क के तहत समाज के सीमांत वर्ग को लाने में आशा की महत्वपूर्ण भूमिका साबित होगी. हम आशा कार्यकर्ताओं को कार्ड बनाने के लिए सभी तकनीकी जानकारियों से लैस करेंगे और वे इसे जारी कर लोगों के घर तक पहुंचाएंगे”.

“श्री पांडे ने कहा कि “आभा”, डिजिटल हेल्थकेयर हाईवे’ और ‘यूनिवर्सल हेल्थकेयर इंटरफेस’ के निर्माण की दिशा में पहला कदम है जो भारत की स्वास्थ्य सेवा में हमेशा के लिए क्रांतिकारी बदलाव लाएगा. पायलट की सफलता पूरे देश में इस परियोजना को बढ़ाना सुनिश्चित करेगी”.

“देश का डॉक्टर” आभा के लाभों का विस्तार कर रहा है, जिसके तहत हेल्थकेयर मुहैया करने वालों की अनोखी एवं भरोसेमंद पहचान, स्वास्थ्य बीमा और अच्छी देखभाल तक पहुंच के साथ अस्पतालों में लंबे इंतजार से बचना एवं स्वास्थ्य डेटा साझा करना शामिल है. यह एप लोगों में आयुष्मान भारत योजना के मुफ्त इलाज और बीमा के लाभों के बारे में भी जागरूकता पैदा करता है. उपयोगकर्ता मोबाइल एप्लिकेशन पर संपूर्ण डिजिटल स्वास्थ्य रिकॉर्ड से लाभान्वित होते हैं.

“देश का डॉक्टर” के बारे में:-

दिल्ली-एनसीआर स्थित हेल्थ-टेक कंपनी “देश का डॉक्टर” की स्थापना नवंबर 2020 में स्वास्थ्य पेशेवरों के सहयोग से तकनीकी-विशेषज्ञों की एक समर्पित टीम द्वारा एक परियोजना के रूप में की गई थी. वर्तमान में टीम में विविध अनुभव वाले 35 से अधिक सदस्य शामिल हैं. यह देश भर में संपूर्ण स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्रदान करने वाली पहली कंपनी है.

यह स्वास्थ्य देखभाल में आने वाली दो महत्वपूर्ण चुनौतियों, पहुंच एवं सामर्थ्य का हल करता है. एक एप के माध्यम से इसकी डिजिटल सेवाएं सुनिश्चित करती हैं कि मरीज लगातार इसकी सम्पूर्ण देख-रेख में हों. राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन के तहत आभा एक समग्र स्वास्थ्य देखभाल पारिस्थितिकी तंत्र बनाने में मदद करेगा, जो सभी तक समान रूप से पहुंच प्रदान करता है, रोगी की अवस्था में सुधार करता है और स्वास्थ्य देखभाल की लागत को कम करता है.

‘देश का डॉक्टर’ एनडीएचएम के साथ खुद को जोड़कर इस क्षेत्र में सबसे आगे है. हाल ही में, भारत के माननीय प्रधान मंत्री ने अनुराग पांडे को भारत के कोविड -19 टीकाकरण कार्यक्रम में अच्छे काम और योगदान के लिए एक प्रशंसा पत्र जारी किया है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.