Take a fresh look at your lifestyle.

दिल्‍ली की हवा पंजाब और हरियाणा से हो रही है दूषित

0

New Delhi: दिल्ली (Delhi) के सटे पड़ोसी राज्य पंजाब और हरियाणा में जल रही पराली से दिल्ली-एनसीआर की आबोहवा एक बार फिरसे प्रभावित होने लगी है. पराली (Parali) जलने के कारण शहर में वायु प्रदूषण की मात्रा में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है. जिसकी वजह से शहरवासियों को सांस लेने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है. सोमवार राष्ट्रीय राजधानी स्थित लोधी  कॉलोनी में वायु प्रदूषण का स्तर खराब श्रेणी में पहुंच गया.

सफर (सिस्टम ऑफ एयर क्लालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च) इंडिया के अनुसार के दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स पीएम 2.5 का स्तर 223 तो पीएम 10 का स्तर 217 दर्ज किया गया है. दोनों को खराब श्रेणी के स्तर में मापा जाता है.

अगर पूरे दिल्ली की बात करें तो पीएम 2.5 का स्तर 114 और पीएम 10 स्तर 208 पर पहुंच गया है. पीएम 2.5 को खराब श्रेणी तथा पीएम 10 को  मध्यम श्रेणी का माना जाता है. वायु प्रदूषण के बढ़ने से कुछ ऐसा ही हाल राजधानी के अधिकांश इलाकों का है. यहां वायु प्रदूषण खराब श्रेणी में पहुंच गई है, या फिर बहुत खराब श्रेणी में पहुंचने की आशंका है.

पंजाब और हरियाणा में पिछले हफ्ते से पराली जलने से विगत चार दिनों से राष्ट्रीय राजधानी में हवा की गुणवत्ता लगातार खराब होती जा रही है. रविवार की शाम छह बजे दिल्ली की हवा में प्रदूषण कण पीएम 10 की मात्रा 258 और पीएम 2.5 की मात्रा 126 माइक्रोग्राम प्रतिघन रही.

केंद्र सरकार द्वारा संचालित संस्था सफर (सिस्टम ऑफ एयर क्लालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च) ने पराली जलने से दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते वायु प्रदूषण को लेकर कहा है कि पराली जलने से निकलने वाला धुआं 15 अक्टूबर के आस-पास दिल्ली  के प्रदूषण में छह फीसदी की बढ़ोतरी कर देगा.

प्रदूषण के मद्देनजर मंगलवार से  ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रेप) दिल्ली में लागू हो रहा है. इससे तहत दिल्ली व एनसीआर में डीजल जनरेटर चलाने पर रोक लगाई जाएगी. हालांकि आपातकालीन सेवाओं में डीजल जनरेटर चलाने की छूट जारी रहेगी. 

दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदूषण पर चिंता जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा था कि पड़ोसी राज्यों में पराली के जलने से निकलने वाला धुआं दिल्ली पहुंचने लगा है. इसकी वजह से राजधानी में हवा की गुणवत्ता बिगड़ने लगी है.

उधर, दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को नियंत्रित करने में केजरीवाल सरकार को विफल करार देते हुए रविवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कनाट प्लेस के सेंट्रल पार्क में लोगों को प्रदूषणरोधी मास्क बांटे. तिवारी ने कहा कि प्रदूषण रोकने में केजरीवाल सरकार पूरी तरह से फेल हो चुकी है.

उल्लेखनीय है कि शून्य से 50 अंक के बीच सूचकांक को अच्छा, 51 और 100 के बीच संतोषजनक, 101 और 200 के बीच मध्यम, 201 से 300 के बीच खराब, 301 से 400 के बीच बहुत खराब और 401 से 500 के बीच गंभीर श्रेणी का माना जाता है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More