Take a fresh look at your lifestyle.

दिल्ली हिंसा में मृतकों की संख्या बढ़कर 17 हुई, सेना की गश्त जारी

0 32

New Delhi: उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. दिल्ली (Delhi Violence) में हुई हिंसा में अब तक 17 लोगों की मौत हो गई है. नॉर्थ ईस्ट दिल्ली (North East Delhi) में पुलिस ने उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश (shot on sight Order) दिए हैं. बुधवार को सीलमपुर के हालात सुधरे हुए दिखाई दे रहे हैं. जाफराबाद स्टेशन को कल रात ही खाली करा दिया गया था.

दिल्ली में हुई हिंसा के बाद आज हालात सामान्य हैं. बुधवार को दिल्ली के सभी मेट्रो स्टेशन खोल दिए गए हैं. हालांकि मृतकों की संख्या बढ़कर 17 हो गई है. उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात संवेदनशील हैं, दिल्ली के चार क्षेत्रों में लगा कर्फ्यू लगा दिया गया है. भजनपुरा और खजूरी खास इलाके में मंगलवार को आगजनी और पथराव के बाद पुलिस ने फ्लैग मार्च किया.

बता दें कि पिछले 3 दिनों से हो रही हिंसा में अब तक 17 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. 56 पुलिसवाले समेत करीब 190 लोग घायल बताए जा रहे हैं. वहीं देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी घटना पर नजर बनाए हुए हैं.

उन्होंने रात में सीलमपुर जाकर हालात का जायजा लिया. उत्तर पूर्वी दिल्ली में बवाल के बाद जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर और चांदबाग में कर्फ्यू लगा दिया गया है.

दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Cm Arvind kejriwal) के आवास के बाहर दिल्ली हिंसा के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने और जल्द से जल्द शांति बहाली की मांग कर रहे लोगों को वहां से हटा दिया है.

वहीं गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah)ने नागरिकता संशोधन कानून विरोधी प्रदर्शन के दौरान मारे गए दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की पत्नी को पत्र लिख कर दुख जताया. उन्होंने लिखा, ‘मैं आपके पति की असामयिक मृत्यु पर शोक प्रकट करता हूं.’

राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी इलाके में तनाव के दूसरे दिन हिंसा चांदबाग और भजनपुरा सहित कई क्षेत्रों में फैल गई. इस दौरान पथराव किया गया दुकानों को आग लगाई गई. डोनाल्ड ट्रंप के जाते ही गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने देर रात फिर दिल्ली में कानून व्यवस्था को लेकर दिल्ली पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की.

सबसे ज्यादा हिंसा मौजपुर और कर्दमपुरी में हुई. यहां सीएए के विरोधी और समर्थक खुलेआम फायरिंग करते रहे. पुलिस के मुताबिक, दोनों ओर से एक हजार से ज्यादा गोलियां चलीं. दोपहर तक मौजपुर और कर्दमपुरी, सुदामापुरी में रुक-रुककर फायरिंग हुई.

पुलिस ने दंगाइयों को गोली मारने का आदेश दिया है. जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के बाहर संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने मंगलवार शाम में रास्ता खाली कर दिया. अब बुधवार को जाफराबाद स्टेशन खाली नजर आ रहा है.

उत्तर पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर, ब्रह्मपुरी, बाबरपुर, कर्दमपुरी, सुदामापुरी, घोंडा चौक, करावल नगर, मुस्तफाबाद, चांदबाग, नूरे इलाही, भजनपुरा, गोकुलपुरी में तनाव है. मंगलवार सुबह दोनों पक्ष के लोग फिर सड़क पर आ गए. कर्दमपुरी और सुदामापुरी इलाके में दिनभर रुक-रुककर पथराव और फायरिंग होती रही. मंगलवार को सबसे अधिक मौत यहीं हुईं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.