Take a fresh look at your lifestyle.

झारखंड में रियायत के बाद भी नहीं खुलीं शराब की दुकानें, जानिए कब और कैसे खरीद सकते हैं पसंदीदा लिकर

0 35

Ranchi: इंतजार का समय खत्‍म हो गया. लॉकडाउन 4 झारखंड के लोगों के लिए भी कई राहत लेकर है. वहीं शराब के शौकिनों के लिए ये खबर खास है. झारखंड में शराब की दुकाने खुलने की तारीख और समय तय हो गई हैं. साथ ही यह भी तय कर लिया गया है कि किन नियम और शर्तों के साथ पसंददीदा शराब की बोतलें खरीदी जा सकती हैं.

हालांकि लॉकडाउन 4 के रियायतों की जानकारी झारखंड के मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन ने 18 मई को देर शाम ट्विट के जरिये साझा कर दी थी. इसमें कहा गया कि शराब की दुकानें भी खोली जाएंगी. बावजूद इसके दूसरे दिन 19 मई को दिनभर लीकर शॉप पर ताले लटके रहे. ऐसे में आप यह जरूर जानना चाहेंगे कि झारखंड में शराब की दुकानें कब खुलेंगी और आप शराब की बोतलें कैसे खरीद सकते हैं.

आइए जानते हैं कि सरकार लॉकडाउन 4 में दी गई रियायतों के अनुसार शराब की दुकानें कैसे खोलने की तैयारी कर रही है. जानकारी के अनुसार झारखंड सरकार के निर्देश के बाद अब जिला स्तर पर डीसी रेड जोन और कंटोनमेंट जोन को परिभाषित करेंगे. इसके लिए सरकारी अधिसूचना जारी होगी. उसके बाद ही दुकानें खुल सकेंगी.

वहीं शराब दुकान को लेकर कई उलझने हैं, जिसे अब (19 मई) को उत्पादन विभाग ने बैठक कर सारी सुलझा ली हैं. देर शाम तक शराब दुकान खोलने की गाइलाइन डीसी को उत्पाद विभाग की तरफ से भेज दिया जायेगा.

झारखंड में शराब दुकान खुलने की तारीख और समय तय

जानकारी के अनुसार 20 मई से शराब दुकानें खुलनी शुरू हो जायेंगी. दुकानों में शराब बेचने के दौरान भारत सरकार द्वारा कोविड 19 के लिए तय गाइडलाइन का पालन करने की तैयारी की जा रही है.

तमाम छूट के बावजूद गृहमंत्रालय का निर्देश है कि शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक बिना वजह कोई सड़क पर ना उतरे. ऐसे में उत्पाद विभाग भी शराब दुकान सुबह सात बजे से शाम के सात बजे तक ही खोलेगी. वहीं निगम क्षेत्र में ई-पास का इंतजाम किया जा रहा है.

लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए दुकान पर जाकर भी शराब की खरीदारी कर सकते हैं. वहीं ग्रामीण इलाकों में ई-पास के बगैर ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए शराब की खरीददारी की जा सकेगी.

इस संबध में देऱ शाम तक उत्पाद विभाग की तरफ से सभी डीसी को निर्देश जारी कर दिया जायेगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.