Covishield और Covaxin को DCGI से मिली मंजूरी

by

New Delhi: ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया(DCGI) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) की वैक्सीन, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन को आपातकालीन स्थिति में रिस्ट्रिक्टेड यूज की अनुमति दे दी है. इसके साथ ही बोर्ड ने मैसर्स केडिला हेल्थकेयर को भारत में तीसरे चरण के ​क्लीनिकल ट्रायल करने की अनुमति भी दी है. देश में नए साल की शुरूआत एक अच्छी खबर से हुई है. इससे पहले इन दोनों कोरोना वैक्सीन को स्वास्थ्य मंत्रालय की एक्सपर्ट कमेटी ने मंजूरी दे दी थी और आज इन दोनों कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) को लेकर ये बड़ा ऐलान हुआ है.

रविवार की सुबह 11 बजे ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) की प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोविशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) के आपातकालीन इस्तेमाल पर आधिकारिक ऐलान किया है. इसपर पूरे देश की निगाहें टिकी थीं. दूसरी तरफ वैक्सीनेशन के लिए कई राज्यों में दो जनवरी 2021 यानि कल शनिवार को ड्राई रन की प्रक्रिया शुरू हुई जिसके तहत वैक्सीनेशन का मॉकड्रिल किया जा रहा है. 

Read Also  सदर अस्प‍ताल रांची से शुरू हुई झारखंड में कोरोना वैक्सीनेशन, हेमंत सोरेन ने कहा- वरदान साबित होगा

बता दें कि कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) को लेकर बनी एक्सपर्ट कमेटी ने पिछले 48 घंटों में दो वैक्सीन को देश में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. कमेटी ने साल के पहले दिन कोविशील्ड (Covishield) को और अब कोवैक्सीन (Covaxin) को अपनी मंजूरी दे दी है. इस तरह से अब DCGI की अनुमति मिलते ही वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

भारत में ही बनी हैं दोनों वैक्सीन

कोवैक्सीन (Covaxin) पूरी तरह से स्वदेशी है और इसे भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने बनाया है. ये वैक्सीन हैदराबाद लैब में तैयार की गई है. तो वहीं, कोविशील्ड (Covishield) को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका ने मिलकर बनाया है और भारत में इसका निर्माण सीरम इंस्टिट्यूट (Serum Institute) द्वारा किया जा रहा है.

Read Also  सदर अस्प‍ताल रांची से शुरू हुई झारखंड में कोरोना वैक्सीनेशन, हेमंत सोरेन ने कहा- वरदान साबित होगा

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.