Take a fresh look at your lifestyle.

रांची में दो महीने से तैयार खड़ी है कोविड ट्रेन, प्रशासन का फोकस पेड सेंटर्स पर

Support Journalism
0 46

Ranchi: झारखंड में कोरोना संक्रमण (coronavirus) का ग्राफ हर दिन बढ़ता जा रहा है. ऐसे में रांची जिला प्रशासन एसिम्पोटोमैटिक यानी बिना लक्षण वाले मरीजों को रखने के लिए सरकारी भवनों से लेकर पेड कोविड केयर सेंटर तैयार कर रही है. हाल ही में रांची उपायुक्त ने अस्पतालों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर होटलों में आइसोलेशन सेंटर बनाने का निर्देश दिया था. इस निर्देश पर गुरुनानक हॉस्पिटल, देवकमल, मेडिका ने होटलों में पेड कोविड केयर सेंटर शुरू भी कर दिया है. हालांकि इनका प्रतिदिन का किराया 2400 से 4000 रुपए है, जो एक आम आदमी के बस की बात नहीं.

वहीं दूसरी ओर 480 बेड की कोविड ट्रेन तैयार खड़ी है, लेकिन जिला प्रशासन इसका उपयोग नहीं कर रहा. जबकि, रेलवे का दावा है कि अगर सरकार चाहे तो दो घंटे के अंदर कोविड ट्रेन हैंड ओवर कर दिया जाएगा. ट्रेन में ऑक्सीजन सिलेंडर की भी व्यवस्था है. हालांकि रेलवे और प्रशासन के बीच आपसी सहमति नहीं बन पाने के कारण ट्रेन अब तक यूहीं खड़ी है. अगर ट्रेन का उपयोग शुरू हो जाए तो बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों को हजारों रुपए खर्च कर पेड कोविड केयर में नहीं रहना पड़ेगा.

रांची रेल डिविजन के सीपीआरओ नीरज कुमार का कहना है स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कोविड ट्रेन का निरीक्षण किया है. रेलवे की ओर से तैयारी पूरी है. प्रशासन को जब जरूरत पड़ेगी ट्रेन उपलब्ध करा दी जाएगी.

इधर, रांची डीसी छवि रंजन ने मीडिया को जानकारी दी कि रेलवे के अधिकारियों के साथ बैठक हुई थी. उसमें बहुत सारे लॉजिस्टिक इश्यू हैं. उसमें यह सहमति नहीं बन पाई कि रेलवे और हमारे द्वारा क्या मदद मिल पाएगी. इस पर राज्य स्तर से इंटरवेशन की जरूरत है. फिलहाल अभी इसमें फोकस नहीं है.

निगम अस्पताल में शुरू किया पेड केयर सेंटर

रांची जिले में देवकमल हॉस्पिटल द्वारा आमंत्रण बैंक्वेट हॉल और मेडिका द्वारा रॉयल रिट्रीट होटल में बिना लक्षण वाले कोविड मरीजों के लिए केयर सेंटर शुरू किया गया है. इस पेड केयर सेंटर में अब रातू रोड स्थित निगम अस्पताल का भी नाम जुड़ गया है. यहां देवकमल अस्पताल ने हॉल में रहने के लिए 2400 और कमरे का चार्ज 4000 रुपए निर्धारित किया है. यही रेट आमंत्रण बैंक्वेट हॉल का भी है. देवकमल अस्पताल ने निगम अस्पताल भवन को पीपीपी मोड पर लिया है. सरकार चाहे तो इसमें राहत दे सकती है.

होम क्‍वारंटिन के लिए सख्‍ती

कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जिला प्रशासन ने थानावार चार टीमों का गठन किया है. यह टीम जारी दिशा-निर्देशों का अनुपालन हो रहा है या नहीं इसकी जांच करेगी. टीम को यह जिम्मेदारी दी गई है कि जो लोग मास्क नहीं पहन रहे, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे, उन पर कार्रवाई करे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.