Take a fresh look at your lifestyle.

Coronavirus Insurance Scheme: कोविड 19 इंश्‍योरेंस पॉलिसी जो आपके आर्थिक नुकसान को करता है कवर

0 1,332

New Delhi: कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में फेसमास्‍क और हैंडवॉश जरूरी होता है, उसी तरह अब कई बीमा कंपनियां कोविड-19 के खतरों को कवर करने के लिए इंश्‍योरेंस प्‍लान भी लॉन्‍च किया है. आपको पता है भारत में Covid-19 (कोरोना वायरस) पॉज़िटिव लोगों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है. वहीं लॉकडाउन में भी चरणबद्ध तरीके से छूट बढ़ती जा रही है. चहल पहल धीरे-धीरे शुरू हो रहा है. ऐसे में जाने-अनजाने कोरोना संक्रमण का खतरा भी बढ़ गया है. इंयोरेंस सेक्‍टर में अब कई बीमा पॉलिसी आ गई हैं जो करोना मरीजों को भी कवर करती हैं.

लोगों में बढ़ती घबराहट और कोरोना वायरस के तेजी से प्रसार को देखते हुए, भारत में सभी हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों ने रेगुलर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत कोरोना वायरस के इलाज को कवर देना शुरू कर दिया है. हालांकि, बीमा रेगुलेटर इरडा के निर्देशों के अनुसार, इंश्योरेंस कंपनियों ने खास तौर पर कोरोना वायरस पर फोकस खास हेल्थ इंश्योरेंस प्रोडक्ट की भी शुरुआत की है. ये प्रोडक्ट इस घातक वायरस के संक्रमण के खिलाफ पूरा कवरेज देते हैं.

ऐसे बीमा प्लान संक्रमण के इलाज के दौरान आमदनी के नुकसान की भरपाई भी करेंगे क्योंकि कोरोना वायरस पॉज़िटिव होने पर पॉलिसीधारक को एकमुश्त पूरी बीमा राशि (फुल सम एश्योर्ड) का भुगतान किया जाता है. लेकिन, उपभोक्ताओं को इन प्लान को रेगुलर इन्डेमनिटी आधारित हेल्थ प्लान के साथ राइडर के रूप में खरीदना चाहिए जो सभी बीमारियों के खिलाफ फुल सम एश्योर्ड तक कवरेज देते हैं.

एसबीआई का आरोग्‍य संजीवनी

कोरोना महामारी के इलाज के खर्चों को पूरा करने के लिए एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी ने एक स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी को लॉन्च किया है. इस बीमा पॉलिसी के तहत लोगों को एक लाख रुपये से लेकर के पांच लाख रुपये तक का कवर मिलेगा. इस पॉलिसी का नाम आरोग्य संजीवनी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी रखा है. जिसमें पॉलिसीधारकों को किफायती प्रीमियम पर स्टैण्डर्ड कवरेज मिलेगा.
इस पॉलिसी का नाम ‘आरोग्य संजीवनी’ होगा जिसके साथ उसे देने वाली इंश्योरेंस कंपनी का नाम भी होगा. सभी इंश्योरेंस कंपनियों में इसके स्टैंडर्ड फीचर्स होंगे और इसका प्रीमियम भी कम होगा. इसके तहत कोविड-19 सम्बन्धी हॉस्पिटलाइजेशन खर्च का कवरेज भी दिया जाएगा.

DBS Bank India का Coronavirus Insurance

DBS Bank India कोरोनावायरस बीमा कवर देने के अलावा, ग्राहकों की भलाई और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, डीबीएस बैंक अपने सभी एटीएम और बायोमेट्रिक उपकरणों पर एंटी-माइक्रोबियल कोटिंग (anti-microbial coating) लगा रहा है.

कोरोनावायरस महामारी के मद्देनजर फाइनेंशियल एक्स्प्रेस की रिपोर्ट के अनुसार डीबीएस बैंक इंडिया ने अपने एक बयान में कहा कि उसने भारत में डीबीएस ट्रेजरी के ग्राहकों के लिए complimentary insurance शुरू करने के लिए भारती एक्सा (Bharti AXA) के साथ साझेदारी की है.

सिंगापुर के इस मल्टीनेशनल बैंक ने कहा कि complimentary insurance योजना में नोवल कोरोनावायरस (COVID-19) और अस्पताल में भर्ती होने के 10 दिनों तक प्रति दिन 5000 रुपये के कवर सहित सभी चिकित्सा शर्तों को शामिल किया गया है.

Coronavirus Insurance Scheme: कोविड 19 इंश्‍योरेंस पॉलिसी जो आपके आर्थिक नुकसान को करता है कवर
Coronavirus Insurance Scheme: कोविड 19 इंश्‍योरेंस पॉलिसी जो आपके आर्थिक नुकसान को करता है कवर

आयुष्मान भारत-PMJAY योजना

राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) के सीईओ डॉ. इंदु भूषण के अनुसार, नए कोरोनोवायरस (COVID-19) महामारी के लक्षणों का नि: शुल्क अनुभवजनित और अन्य नामित अस्पतालों में लाभार्थियों के लिए आयुष्मान भारत-PMJAY योजना के विभिन्न पैकेजों के माध्यम से उपलब्ध है. जिन लक्षणों के लिए आयुष्मान भारत-पीएमजेएवाई के तहत नि: शुल्क उपचार उपलब्ध है, उनमें निमोनिया, बुखार, श्वसन विफलता आदि शामिल हैं.

आपको बता दें कि भारत सरकार की प्रमुख आयुष्मान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (AB-PMJAY) देश भर में 10.74 करोड़ से अधिक गरीब और कमजोर परिवारों के लिए माध्यमिक और तृतीयक देखभाल अस्पताल में भर्ती के लिए प्रति वर्ष 5 लाख रुपये प्रति परिवार तक का कवर प्रदान करती है. योजना के तहत, लाभार्थियों को अनुभवहीन और नामित अस्पतालों में सेवाओं के लिए कैशलेस और पेपरलेस पहुंच प्रदान की जाती है.

पेटीएम की कोरोना इंश्‍योरेंस पॉलिसी

पेटीएम ने रिलायंस जनरल इंश्योरेंस के साथ मिलकर कोविड-19 इंश्योरेंस प्लान लॉन्च किया है. इस प्लान की खास बात यह है कि इसमें नौकरीपेशा लोगों को सैलरी में होने वाले नुकसान की भरपाई भी की जाएगी. पॉलिसीधारक को क्वारंटाइन और उपचार लागत के दौरान होने वाला खर्च को शामिल किया गया है. इस प्लान के तहत ग्राहकों को अधिकतम 2 लाख रुपये का कवर मिलता है. वायरस के पॉजिटिव क्लेम पर 100 फीसदी, क्वारंटाइन पर 50 फीसदी बीमा कवर मुहैया करवाया जाएगा.

यह प्लान कोरोनवायरस के मरीजों पर होने वाले अधिकांश खर्चों का ध्यान में रखकर डिजाइन किया गया है. इस पॉलिसी को पेटीएम ऐप पर खरीदा जा सकता है. तीन महीने के बच्चे से लेकर 60 साल के वरिष्ठ नागरिक तक लगभग सभी इस बीमा के लिए पात्र हैं. पॉलिसी की वैधता अवधि एक साल है और क्लेम वेटिंग पीरियड 15 दिन है.’

ICICI लोम्बार्ड-कोविड -19 प्रोटेक्शन कवर

कोरोना वायरस के लिए ICICI लोम्बार्ड के खास स्वास्थ्य बीमा प्लान को कोविड -19 प्रोटेक्शन कवर नाम दिया गया है. यह एक फिक्सस्ड बेनेफिट प्लान है जो पॉलिसीधारक के कोरोना पॉज़िटिव होने पर उसके अस्पताल में भर्ती होने के खर्च से अलग एकमुस्त 100 प्रतिशत सम एश्योर्ड का भुगतान करती है. यह प्लान 14 दिनों की प्रारंभिक वेटिंग पीरियड के साथ आता है. यानी बीमा लेने के 14 दिनों के बाद से कवर शुरू होता है. इसे 18 से 75 वर्ष की आयु वर्ग के लोग खरीद सकते हैं.

हालांकि, ICICI लोम्बार्ड का कोविड -19 प्रोटेक्शन कवर 31 दिसंबर, 2019 के बाद विदेश यात्रा करने वाले लोगों के लिए नहीं हैं. इसके अलावा, यदि पॉलिसीधारक को रिस्क इंसेप्शन डेट के पहले या 14 दिन के वेटिंग पीरियड में क्वारंटीन या डायग्नोज किया गया है तो बीमा कंपनी किसी भी क्लेम के भुगतान के लिए उत्तरदायी नहीं होगी. यहां तक कि इस प्लान में कुछ एड-ऑन्स भी हैं. जैसे टेली कंसल्टेशन (कोई भी परामर्श को लेने के लिए 4 मुफ्त कॉल) और एम्बुलेंस की सुविधा भी शामिल है. ये बीमाधारक के कवरेज को बढ़ा सकते हैं. इस हेल्थ कवर का प्रीमियम 149 रुपए है जो 25,000 रुपए का सम एश्योर्ड उपलब्ध करता है.

फ्यूचर जनराली-ग्रुप इंश्योरेंस कवर/मेडिक्लेम पॉलिसी

फ्यूचर जनराली का हेल्थ इंश्योरेंस प्लान भी फिक्स्ड-बेनेफिट कवर देता है. पॉलिसीधारक के संक्रमित होने पर यह प्लान एकमुश्त 100 फीसदी सम एश्योर्ड देता है. हालांकि, पॉलिसी खरीदते समय उपभोक्ता को अपनी यात्रा रिकॉर्ड उपलब्ध कराना होगा. साथ ही उसका कोरोना वायरस से संबंधित कोई पिछला मेडिकल रिकॉर्ड भी नहीं होना चाहिए. यदि पॉलिसी धारक को कोरोना वायरस संक्रमण का डॉयग्नोसिस नहीं किया गया है और उसे Covid-19 संक्रमण के संदेह में 14-दिन के क्वारंटीन के लिए कहा गया है तो सम एश्योर्ड के केवल 50 फीसदी दिया जाएगा. 50 प्रतिशत सम एश्योर्ड के अलावा, बीमा राशि का 10 फीसदी क्वारंटीन पॉलिसी धारक को आकस्मिक खर्चों के लिए दिया जाएगा.

स्टार हेल्थ इंश्योरेंस – स्टार नॉवेल रोनावायरस

स्टार हेल्थ इंश्योरेंस का स्टार नोवेल कोरोना वायरस उन लोगों को स्वास्थ्य बीमा कवर प्रदान करता हैं जिनका Covid -19 टेस्ट पॉज़िटिव है और उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत है. हालांकि, यह प्लान 16 दिनों के इनिशियल वेटिंग पीरियड के साथ आता है. 18 से 65 वर्ष की आयु का कोई भी व्यक्ति स्टार हेल्थ इंश्योरेंस के इस प्लान को खरीद सकता है. जबकि 3 महीने से 25 साल के डिपेंडेंट बच्चों को माता-पिता में से किसी एक के साथ इस योजना के तहत कवर किया जा सकता है.

इस पॉलिसी की सबसे खास बात यह है कि किसी भी देश की विदेश यात्रा के इतिहास वाले व्यक्ति को भी कवर करता है. 21,000 रुपए के सम एश्योर्ड के साथ स्टार नोवेल कोरोना वायरस प्लान 459 रुपए+GST के प्रीमियम पर ऑनलाइन उपलब्ध है. वहीं 42,000 रुपए के सम एश्योर्ड के लिए प्लान का प्रीमियम 918 रुपए+GST है. फिक्स्ड बेनेफिट प्लान होने की वजह से इस पॉलिसी को साल में सिर्फ एक बार खरीदा जा सकता है.

क्या हैं शर्तें?

कोरोना वायरस के लिए इस तरह के फिक्स्ड-बेनेफिट प्लान सिर्फ 1 साल की सीमित अवधि के लिए उपलब्ध हैं. इन प्लान का रिन्युअल या किसी अन्य बीमारी के इलाज के लिए इनका उपयोग नहीं किया जा सकता. इसके साथ ही ये पॉलिसियां सिर्फ भारत के निवासियों के लिए ही हैं. हालांकि उम्र, सम एश्योर्ड, व्यक्तिगत या समूह जैसी दूसरी शर्तें हर पॉलिसी के लिए अलग-अलग है.

तो क्या करें आप?

फिक्स्ड बेनेफिट प्लान किसी खास बीमारी के लिए खास कवरेज प्रदान करते हैं. फिर भी आपको हमेशा फिक्स्ड बेनेफिट प्लान के तहत खुद को कवर करने के अलावा एक क्षतिपूर्ति आधारित स्वास्थ्य बीमा योजना खरीदने की भी सलाह दी जाती है. इस तरह के प्लान को हर साल रिन्यू किया जा सकता है और आपको उस विशिष्ट बीमारी के इतर समग्र सुरक्षा कवर मिल जाती है. हर तरह की बीमारी और मर्ज़ से व्यापक और समग्र सुरक्षा के लिए, आपको हमेशा अधिकतम सम एश्योर्ड के साथ एक रेगुलर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में निवेश करना चाहिए.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.