Corona Year 2020 Calendar: जनवरी में कोविड 19 वायरस ने एंट्री मारी, अब तक कोरोना संक्रमितों की संख्‍या एक करोड़

by

Corona Year 2020 Calendar

जनवरी 2020: 30 जनवरी 2020 में केरल के त्रिशुर जिले में देश का पहला कोरोना केस पाया गया.

फरवरी 2020: फरवरी 2020 महीने में 3 कोरोना पॉजिटिव केस पाये गए.

24 मार्च को संपूर्ण भारत में पूर्ण लॉकडाउन का ऐलान

मार्च 2020: मार्च में 1251 केस सामने आए. 11 मार्च को कोरोना संक्रमण से देश में पहली मौत. महीने के आखिर तक 32 लोगों की मौत हुई. वहीं 112 लोग स्‍वस्‍थ भी हुए.

कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए पीएम मोदी के अपील पर 22 मार्च को पूरे देश में ‘जनता कर्फ्यू’ लगा. आवश्‍यक सेवाओं को छोड़कर बाजार, दफ्तर, सभी तरह के ट्रांसपोर्ट बंद किया गया.

24 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रात 12 बजे से संपूर्ण देश में संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की. आवश्‍यक सेवाओं को छोड़कर बाजार, दफ्तर और ट्रांसपोर्ट को अगले 21 दिनों तक बंद करने का ऐलान किया गया. देश की 130 करोड़ जनता ने खुद को अपने घरों में बंद कर लिया.

कोरोना वायरस के साथ लड़ाई में मजदूरों का पलायन एक बड़ा खतरा बनकर सामने आया. प्रधानमंत्री द्वारा 21 दिनों तक घर से बाहर आवाजाही पर रोक की घोषणा किए जाने के साथ ही ये मजदूर अपने ठिकानों से निकल पड़े. उनका यह हाल देखकर चौकन्नी हुई सरकार ने एक के बाद एक घोषणाओं की झड़ी लगा दी. साथ ही केंद्र सरकार ने सभी राज्‍य सरकारों से राज्‍य की सीमाओं को सील करने को कहा.

अगले 21 दिनों के लिए उद्योग धंधे, कारखाने, रोजगार के अवसर सभी बंद हो गए. देश की इकोनॉमी और जीडीपी लगातार जाने लगी. तब पीएम मोदी ने कहा ‘जान है तो जहान’ है.

इसी मार्च महीने आखिरी दिन 31 तारीख को झारखंड में पहला कोरोना केस सामने आया. रांची के हिन्‍दपीढ़ी में मलेशियाई एक महिला में कोविड-19 की पुष्टि हुई.

रामनवमी में बंद रहे मंदिरों के पट

अप्रैल 2020: 2 अप्रैल को रामनवमी का दिन था. इस दिन जहां हर साल बड़े आयोजन और महावीरी झंडों के साथ जुलूस का आयोजन होता है. वहीं दूसरी ओर इस दिन पहली बार मंदिरों के पट बंद दिखे. सड़क पर कोई जुलूस नहीं निकाला गया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अपील पर 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट तक लाइट बंद कर घर के बाहर दीप और मोबाइल के फ्लैश लाइट जलाए.

21 दिनों के लॉकडाउन की मियाद पुरी हो रही थी. लेकिन कोरोना वायरस का संक्रमण कम नहीं हो रहा था. 24 मार्च को जब प्रधानमंत्री ने 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया था तब देश में कोरोना मरीजों की कुल संख्‍या 492 थी. 9 लोगों की मौत हो चुकी थी. अब 21 दिनों के बाद 14 अप्रैल तक देश में कोरोना मरीजों की संख्‍या 10,363 हो गई. इस दौरान 339 लोगों की मौत भी हो गई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल की रात को 21 दिनों के लॉकडाउन को जारी रखते हुए तीन मई तक लॉकडाउन 2 का ऐलान कर दिया. इस दौरान पीएम मोदी ने सामाजिक संस्‍थाओं से दिहाड़ी मजदूरों और गरीब लोगों को बढ़ चढ़ कर मदद करने की अपील की.  

अप्रैल महीने में झारखंड में 107 केस पाए गए. यहां 10 अप्रैल को कोरोना से पहली मौत हुई. इस महीने कुल तीन लोगों की मौत हुई. वहीं 19 कोरोना मरीज स्‍वस्‍थ हुए.

पीएम नरेंद्र मोदी के अपील के बाद झारखंड में न सिर्फ सामाजिक संगठन, बल्कि व्‍यवसाई वर्ग, धार्मिक संस्‍थाएं हर कोई एक दूसरे की मदद के लिए बढ़-चढ़कर सामने आए.

ट्रेन और हवाई जहाज से मजदूरों की घर वापसी

मई 2020: लॉकडाउन के दूसरे चरण के खत्‍म होने से पहले मोदी सरकार ने लॉकडाउन तीन का निर्णय ले लिया. पीएम मोदी ने एक मई को लॉकडाउन तीन का ऐलान किया. अप्रैल महीना खत्‍म होने तक पूरे में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्‍या 33,050 हो गई थी. वहीं 1,074 लोगों की मौत हो गई थी.

लॉकडाउन के तीसरे चरण में देशभर में शराब के दुकानों को खोलने की अनुमति दे दी गई. 4 मई की सुबह को दिल्‍ली, कर्नाटक, छत्‍तीसगढ़ समेत कई राज्‍यों के शहरों में शराब खरीदने के लिए वाइन शॉप के बाहर कई किलोमीटर तक लोगों की लंबी कतार देखने को मिली. कुछ राज्‍यों में तो शराब की होम डिलीवरी भी शुरू कर दी गई.  झारखंड में 19 मई से शराब की दुकानें खोलने की अनुमति दी गईं.

वहीं दूसरी ओर लॉकडाउन के दौरान बॉलीवुड एक्‍टर सोनू सूद मजदूरों को मदद और बसों से घर पहुंचाने में रियल लाइफ हीरो की तरह छाये रहे. लॉकडाउन में सोनू सूद ने सोशल मीडिया में एक्टिव रहकर मजदूरों की पेरशानी सुनी और तुरंत जवाब भी दिया. साथ ही उन्‍होंने मजदूरों की हर मुमकीन मदद की. उन्‍होंने अपने प्रयास से मजदूरों के लिए बसों का इंतजाम किया और मुंबई से देश के हर कोने में उन्‍हें घरों का भेजने का बीड़ा को पूरा किया.

केंद्र सरकार से अनुमति मिलने के बाद झारखंड सरकार के प्रयास से 2 मई को तेलंगाना से 1200 मजदूरों को लेकर लॉकडाउन में पहली ट्रेन रांची पहुंची. इस दौरान रांची स्‍टेशन में मजदूरों की स्‍क्रीनिंग के साथ बसों से घर पहुंचाने की व्‍यवस्‍था की गई. इसके बाद एक के बाद पूरे देश से मजदूरों से भरी ट्रेन झारखंड पहुंचने लगी.

झारखंड के मजदूर सिर्फ ट्रेन से ही अपने घर नहीं लौटे, बल्कि मजदूरों को हवाई जहाज से भी लाया गया. झारखंड सरकार के प्रयास से 177 मजदूरों को लेकर पहली फ्लाइट 28 मई को मुंबई से रांची पहुंची. मजदूरों के हवाई जहाज से घर वापसी का सिलसिला आगे कई सप्‍ताह तक जारी रहा.

इधर झारखंड में मई महीने में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा 563 हो गया. मरने वालों का कुल आंकड़ा पांच पहुंच गया. स्‍वस्‍थ होने के बाद 256 लोगों को छुट्टी मिल गई.

इस बीच देश में लॉकडाउन 4 का भी ऐलान कर दिया गया. इस दौरान कुछ रियायत और हिदायत के साथ कोरोना गाइडलाइन को सख्‍ती से पालन का निर्देश दिया गया.

कोरोना संक्रमण नहीं थमा मिलने लगी लॉक डाउन में छूट

जून 2020: कोरोना लॉकडाउन-5 को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गाइडलाइन्स की गई. इसे अनलॉक 1 भी कहा गया, क्‍योंकि जारी गाइडलाइन्स के तुताबिक 8 जून से धार्मिक स्थल और सार्वजनिक पूजा स्थल, शॉपिंग मॉल, होटल-रेस्तरां खोलने की अनुमति दी गई. कोरोना कंटेन्मेंट जोन में 30 जून तक लॉक डाउन बढ़ा दिया गया.

इधर झारखंड में कोरोना संक्रमण की तेजी को देखते हुए हेमंत सोरेन की सरकार ने झारखंड में ज्‍यादा छूट नहीं देने का फैसला लिया.

जून महीने में कुल 2,436 कोरोना संक्रमितों की पुष्टि हुई. कुल 15 मौत हुए. इस महीने तक 1845 लोग स्‍वस्‍थ भी हुए.

झारखंड विधानसभा भी हुआ बंद

जुलाई 2020: झारखंड के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर और उनके परिवार के सदस्य पिछले दिनों कोरोना पॉजिटिव पाये गये. विधायक मथुरा महतो, विधायक चंद्रेश्वर प्रसाद सिंह भी कोरोना पॉजिटिव हुए. झारखंड में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे और मंत्री-विधायकों एवं जनप्रतिनिधियों के इस जानलेवा संक्रमण की चपेट में आने की वजह से झारखंड विधानसभा को 27 जुलाई तक बंद कर दिया.

जुलाई महीने में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की कुल संख्‍या 10,167 हो गई. मौत का आंकड़ा 103 पहुंच गया. जबकि 4,176 कोरोना मरीज स्‍वस्‍थ हुए.

अगस्‍त 2020: अगस्‍त महीने में कोरोना मरीजों की संख्‍या बढ़कर 38,435 हो गई. मौत का आंकड़ा 410 पहुंच गया. इन सबके मुकाबले 26,448 कोरोना मरीज स्‍वस्‍थ हुए.

सितंबर 2020: सितंबर महीने में झारखंड में कोरोना के कुल मरीजों का आंकड़ा 82,540 हो गया. 69,898 मरीज स्‍वस्‍थ हुए. वहीं सितंबर महीने के आखिर तक कुल 700 लोगों की मौत हो गई.

अक्‍टूबर 2020: अक्‍टूबर महीने में कोरोना संक्रमण की तादात स्थिर होती हुई दिखी. इस महीने झारखंड में कुल 101,287 लोग संक्रमित हुए. 95,208 कोरोना मरीज स्‍वस्‍थ हुए. वहीं कुल 883 लोगों ने दम तोड़ा. ये आंकड़े पहले की औसत तुलना में काफी कम दिखे.

सरकार के कोरोना के खिलाफ जंग के खलनायक साबित हो रहे हैं सहयोगी दलों के नेता  

नवंबर 2020: वहीं झारखंड में अब नवंबर के 27 तारीख तक में कोरोना संक्रमितों की कुल तादात 108,388 पाई गई है. कोरोना से मरने वालों की संख्‍या 961 हो गई है. 105,258 मरीज स्‍वस्‍थ हुए हैं. 

Corona Year 2020 Calendar: महज 10 महीने के अंदर देश में कोरोना मरीजों की कुल संख्‍या करीब एक करोड़ करीब पहुंच गई है. इनमें से 453,956 एक्टिव केस हैं. देश में अब तक 136696 कोरोना मरीजों की मौत हो चुकी है. इस वैश्विक महामारी से निपटने के लिए वैक्सिन पर रिसर्च जारी है. तब तक बीमारी से बचाव के लिए सावधानी जरूरी है. 2 गज की दूरी और मास्‍क के इस्‍तेमाल से ही वायरस से मुकाबला किया जा सकता है. 

2 thoughts on “Corona Year 2020 Calendar: जनवरी में कोविड 19 वायरस ने एंट्री मारी, अब तक कोरोना संक्रमितों की संख्‍या एक करोड़”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.