जल्द आने वाली है बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन, एम्स के डायरेक्टर ने दी ये जानकारी

by

Corona Vaccine for children: कोरोना महामारी के बचाव के चलते देश में वयस्कों का वैक्सीनेशन कहीं हद तक कवर कर लिया गया है, जिस वजह से दूसरी लहर में भी राहत देखने को मिली. लेकिन अब तीसरी लहर का खतरा सीधे तौर पर बच्चों पर मंडरा रहा है. देश में तमाम बच्चों के अभिभावक कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चिंतित नजर आ रहे है. ऐसे में एक अच्छी खबर यह है कि बहुत ही जल्द बच्चों की भी वैक्सीन आने वाली है.

एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया कि जहां एक तरफ कम संक्रमण वाले जिले में स्कूल खोले जाने की बात कही है, वहीं उनका कहना है कि बच्चों का वैक्सीनेशन होने से माता-पिता का उनकी सुरक्षा को लेकर कॉन्फिडेंस बेहतर होगा.

Read Also  महाराष्‍ट्र के पूर्व मंत्री और बड़े कारोबारी ने रची थी हेमंत सरकार गिराने की साजिश!

देश में वयस्कों के वैक्सीनेशन के समय देशी और विदेशी दोनो ही टीकों में कमी देखी गई थी लेकिन अब, जब बच्चों के वैक्सीनेशन की बारी है तो देश में दोनो ही टीके देशी और विदेशी मौजूद रहेगें.

डॉ रणदीप गुलेरिया ने बताया कि देश में बच्चों पर कोवैक्सीन का ट्रायल चल रहा है. ट्रायल की रिक्रूटमेंट पूरी हो चुकी है. इसके ऑब्जर्वेशन और इम्यूनिटी का डेटा तैयार किया जा रहा है.

आगे उन्होनें कहा कि पूरी उम्मीद है कि इसका अंतिम डेटा सितंबर तक आ जाएगा और उसके बाद बच्चों में भी वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी.

बच्चों के लिए ज्यादा विकल्प मौजूद

डॉ गुलेरिया ने बताया कि बच्चों पर टीकाकरण के लिए कोवैक्सीन के अलावा भी कई और विकल्प हैं जिसमें जाइडस का जायकोव-डी वैक्सीन है. इस वैक्सीन का ट्रायल बच्चों पर भी हुआ है. कंपनी ने भारत में इस वैक्सीन के इस्तेमाल के लिए मंजूरी मांगी है.

Read Also  हेमंत सरकार गिराने की साजिश में शामिल कांग्रेसी विधायकों के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई

इसके अलावा फाइजर का भी ट्रायल बच्चों पर हुआ है, जिसे एफडीए ने बच्चों में इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. आने वाले समय में कई विकल्प होगें. जिस तरह के सबूत आ रहे हैं उससे यह भी देखा जा रहा है कि बच्चों में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी भी मिल रही है.

2 से 18 साल वालें बच्चों में कोवेक्सीन का ट्रायल जारी

देश में बच्चों की सुरक्षा को लेकर टीकाकरण का ट्रायल जारी है और जैसे ही इसका डेटा कलेक्ट होता है इसे तुरंत ही देश में लागू कर दिया जाएगा. दिल्ली के एम्स सहित देश के छह सेंटरों में 2 से 18 साल के 575 बच्चों पर यह ट्रायल हो रहा है.

Read Also  महाराष्‍ट्र के पूर्व मंत्री और बड़े कारोबारी ने रची थी हेमंत सरकार गिराने की साजिश!

पहले डोज का वैक्सीनेशन हो चुका है, दूसरे डोज की भी शुरूआत हो चुकी है. लेकिन इसका परिणाम आने में सितंबर तक का समय लगेगा. जब अंतिम रिपोर्ट आ जाएगी उसके बाद ही बच्चों में वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को चलाया जाएगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.