कोरोना राहत को लेकर झारखंड में एक-दूसरे पर हमलावर हुए कांग्रेस और भाजपा

कोरोना राहत को लेकर झारखंड में एक-दूसरे पर हमलावर हुए कांग्रेस-भाजपा

Ranchi: झारखंड में कोरोनाकाल में गरीबों को राहत और विकास कार्य को लेकर सत्‍ताधारी कांग्रेस पार्टी और भाजपा एक दूसरे की खिंचाई करने में लगे हुए हैं. कांग्रेस के नेता एक ओर जहां सरकार के प्रयासों की गुणगान कर रही है. वहीं दूसरी ओर भाजपा सरकार की कमियां गिना रही है.

छह माह में एक किमी सड़क नहीं बनी, कम से कम केंद्र से भेजे अनाज को गरीबों तक पहुंचाये

झारखंड प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने हेमंत सोरेन के छह महीने के कार्यकाल को पूरी तरह से निराशाजनक बताया है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपनी जिम्मेवारियों से मुख मोड़ना चाहते है, छह महीने के कार्यकाल में झारखंड में एक किलोमीटर सड़क का निर्माण नहीं हो पाया.

रांची स्थित प्रदेश कार्यालय में गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में दीपक प्रकाश ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से अपील की कि वे कम से कम केंद्र सरकार द्वारा भेजे गये अनाज को गरीबों तक पहुंचाने का काम ईमानदारीपूर्वक करें.

दीपक प्रकाश ने राज्य सरकार पर गरीब विरोधी कार्य करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कागजी घोड़ा दौड़ना छोड़ कर हेमंत सरकार जमीनी सतह पर जरूरतमंद लोगों तक अनाज मुहैया कराने का काम करें.

Read Also  रामकुमार दीपक बने जीडीएस संघ के प्रमंडलीय सचिव

राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने बताया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गरीब कल्याण योजना देश के 80 करोड परिवारों तक पहुंचेगी. उन्होंने  मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की उस बयान की कड़ी निंदा की जिसमें हेमंत सोरेन ने तथाकथित रूप से यह कहा है कि सिर्फ अनाज उपलब्ध करा देने से कुछ नहीं, बल्कि अन्य विकल्पों पर भी विचार करने की जरूरत है.

लॉकडाउन में हेमंत सोरेन सरकार की देश-दुनिया में सराहना हुई, भाजपा नेता पचा नहीं पा रहे है

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने कहा कि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष को झारखंड में जनवितरण प्रणाली की सुदृढ़ व्यवस्था होती व्यवस्था की जगह अंतरराष्ट्रीय बाजार मे पेट्रोलियम पदार्थ की कीमत हो रही कीमत के बावजूद पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस के मूल्य में हो रही बढ़ोत्तरी पर बात करनी  चाहिए थी. लॉकडाउन के दौरान झारखंड में जिस तरह से सभी गरीब और जरूरतमंद परिवारों को राज्य सरकार की ओर से अनाज और भोजन उपलब्ध कराया गया, उसकी पूरी देश में सराहना हुई है.

Read Also  रांची में डांडिया नाइट का जोश, लोगों की फरमाइश पर बदलते गए गीत

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता ने कहा कि छह महीने की यूपीए सरकार पिछले चार महीने से कोरोना महामारी और लॉकडाउन से उत्पन्न परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार है. लॉकडाउन के दौरान राज्य सरकार गरीबों को अनाज और भोजन उपलब्ध कराने में अद्भूत मिसाल पेश की, वरना पिछली सरकार में तो खाद्य आपूर्ति विभाग का बंटाधार कर छोड़ा गया था.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और खाद्य आपूर्ति मंत्री डा रामेश्वर उरांव के नेतृत्व में 58लाख राशन कार्डधारियों के अलावा सभी जरूरतमंद परिवारों को चार महीने से अनाज और भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है, इतना ही नहीं, लगातार सभी लोगों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमत्री दीदी किचन, पुलिस थानों में सामुदायिक किचन, नेशनल हाइवे किसन और दाल-भात केंद्र का संचालन किया गया. वहीं इस संकट काल में भाजपा नेता घर में आराम फरमाते रहे और अब ऐसे मुद्दे को लेकर राजनीति कर रहे है, जिसकी जनता तहे दिल से प्रशंसा कर रही है.

Read Also  रांची में डांडिया नाइट का जोश, लोगों की फरमाइश पर बदलते गए गीत

आलोक कुमार दूबे ने कहा कि पेट्रोल-डीजल के बाद अब रसोई गैस की कीमतों में भी वृद्धि की गयी है. पेट्रोलियम कंपनियों ने 1 जुलाई को रसोई गैस की कीमतें 47 रूपये बढ़ा दी, रांची में भी 14.2किमी के एलपीजी सिलेंडर की कीमत अब 4.50 रूपये बढ़ गयी है. जून महीने में भी 48.50 रूपये की बढ़ोत्तरी की गयी थी. पेट्रोल डीजल की कीमतों की दर बढ़ने से जनता पहले से ही परेशान थी और अब रसोई गैस की कीमत बढ़ने से लोगों की महंगाई से कमर टूट गया है. देश में बेरोजगारों की फौज बढ़ती जा रही है. देश की अर्थव्यवस्था को चैपट करने वाली केंद्र सरकार के सिपहसलारों को प्रधानमंत्री के लिए कासिदे पढ़ते शर्म नहीं आती है. पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था की बात करने वाली सरकार पांच किलोग्राम पर आकर रूक गयी है. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश अचानक से कुछ ज्यादा ही प्याज खाने लगे है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top