कोरोना वायरस के मद्देनजर मध्य प्रदेश विधानसभा सत्र 26 मार्च तक स्थगित

by

Bhopal: मध्‍यप्रदेश में आज कमलनाथ सरकार शक्ति परीक्षण कर रही है. मध्यप्रदेश विधानसभा 26 मार्च तक के लिए स्थगित हुई. कोरोना वायरस के मद्देनजर मध्य प्रदेश विधानसभा सत्र को 26 मार्च तक स्थगित कर दिया गया.

मध्यप्रदेश विधानसभा में राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा प्रदेश कि जो स्थिति है उसमें जिसका अपना जो दायित्व है उसका शांतिपूर्ण, निष्ठापूर्वक और संविधान के द्वारा निर्देशित परंपराओं, नियमों के अनुसार पालन करें. ताकि मध्यप्रदेश का गौरव और लोकतांत्रिक परंपराओं की रक्षा हो सके.

कांग्रेस और भाजपा के विधायक विधानसभा में पहुंच चुके हैं. इस शक्ति परीक्षण के पहल सीएम कमलनाथ ने बड़ी बात कही है.

Read Also  पश्चिम बंगाल में TMC ऑफिस पर हमले से 2 कार्यकर्ताओं की मौत, हिरासत में लिए गए 6 लोग

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल लालजी टंडन को पत्र लिखा है. इस पत्र में सीएम ने लिखा है कि आशा है कि प्रक्रिया और संविधान का पालन किया जाएगा.

इधर भोपाल में मुख्‍यमंत्री कमलनाथ अपने विधायकों के साथ विधानसभा पहुंच गये हैं.

वहीं दूसरी ओर मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराज चौहान भी भाजपा और विधायकों के साथ विधानसभा पहुंच गए हैं.

शक्ति परीक्षण के पहले मध्य प्रदेश कांग्रेस नेता जीतू पटवारी ने कहा कि अब नरेंद्र मोदी मॉडल आया है. पहले विधायकों का अपहरण करो फिर उन्हें प्रलोभन के साथ मैनेज करो. अपहरण के बाद पुलिस कस्टडी में एक जगह रखो. फिर दबाव में उनसे वीडियो वायरल करवाओ. फिर बहुमत के लिए फ्लोर टेस्ट की मांग करो.

Read Also  पश्चिम बंगाल में TMC ऑफिस पर हमले से 2 कार्यकर्ताओं की मौत, हिरासत में लिए गए 6 लोग

वहीं मध्यप्रदेश कांग्रेस नेता पी.सी. शर्मा ने कहा है कि जो कार्यसूची आई है विधानसभा में आज उस पर काम होगा. विधानसभा अध्यक्ष जो भी फैसला लेंगे हमको मंजूर है. हमारे 16 विधायक गायब कर दिए गए हैं जिसकी शिकायत CM ने गृहमंत्री से की है. इन्होंने BJP विधायकों को भी बंदी बना रखा है, उनके फोन गायब हैं.

इधर मध्य प्रदेश, भाजपा नेता गोपाल भार्गव ने आशंका जतायी कि जो फ्लोर टेस्ट टालने की कोशिश हो रही है उससे सरकार नहीं बचेगी. राज्यपाल के आदेश की अवमानना नहीं होनी चाहिए. राज्यपाल के निर्देश के अनुसार उनके अभिभाषण के बाद फ्लोर टेस्ट होगा. अगर मुख्यमंत्री में नैतिकता शेष है तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए.

Read Also  पश्चिम बंगाल में TMC ऑफिस पर हमले से 2 कार्यकर्ताओं की मौत, हिरासत में लिए गए 6 लोग

इसके पहले मध्यप्रदेश के राज्यपाल ने कल मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखकर कहा था कि विधानसभा में विश्वास मत के लिए ‘हाथों को ऊपर उठाने’ के तरीके का इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.