Take a fresh look at your lifestyle.

हेमंत सोरेन को क्‍यों कहना पड़ा- सदन को मछली बाजार न बनाएं

0 32

Ranchi: झारखंड विधानसभा के बजट सत्र (Jharkhand News) के दसवें दिन मंगलवार को विपक्ष की ओर से लोहरदगा हिंसा को लेकर कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया गया, जिसे विधानसभा अध्यक्ष ने अमान्य कर दिया. जिससे नाराज भाजपा विधायक आसन के निकट आकर शोर-शराबा करने लगे.

इसे भी पढ़ें: नियोजन नीति पर झारखंड हाईकोर्ट का फैसला- नियुक्तियों पर रोक बरकारार

लोहरदगा हिंसा पर चर्चा की मांग नामंजूर

विधानसभा अध्यक्ष रवींद्रनाथ महतो द्वारा मंगलवार को पूर्वाह्न 11 बजे आसन ग्रहण करने के साथ ही भाजपा के अनंत ओझा ने लोहरदगा हिंसा को लेकर लाये गये कार्यस्थगन पर सदन में चर्चा कराने की मांग की. लेकिन, विधानसभा अध्यक्ष ने इसे अस्वीकार कर दिया. लेकिन अंनत ओझा ने कहा कि राज्य में हाल के दिनों में आपराधिक घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है.

विधायक अनंत ओझा ने बताया कि 23 जनवरी को लोहरदगा में सीएए के समर्थन में जुलूस निकाला, तो असामाजिक तत्वों द्वारा हमला किया. लेकिन, अब तक इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई नहीं हुई है.

भाजपा विधायक ने इस पूरे प्रकरण की जांच झारखंड हाईकोर्ट के सिटिंग जज से कराने और पीड़ितों को उचित मुआवजा देने की मांग की.

इसे भी पढ़ें: चुनावी घोषणा पत्र पूरा करे हेमंत सरकार, सीएम हाउस के सामने ई-मैनेजर्स की गूंजी आवाज

अनंत ओझा ने कहा कि इस मामले में नामजद अभियुक्त अब तक फरार है. पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है. इस बीच भाजपा के कई सदस्य वेल में आ गये.

विधायक बाबूलाल मरांडी ने बताया कि वे खुद लोहरदगा गये थे, लोहरदगा और पश्चिमी सिंहभूम के बुरुगुलीकेरा की घटना पर सदन में चर्चा कराना जरूरी है.

इस बीच विधायक प्रदीप यादव ने कहा कि बाबूलाल मरांडी ने पिछले दिनों सदन को यह विश्वास दिलाया था कि भाजपा विधायक वेल में आकर कार्यवही को नहीं बाधित करेंगे, लेकिन आज भाजपा विधायक बाबूलाल मरांडी के वायदे की अनदेखी कर रहे है. प्रदीप यादव के इस वक्तव्य के बाद भाजपा विधायक फिर से वेल में आकर हंगामा करने लगे.

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस संक्रमित मरीज तीन दिन में बदला कई ठिकाना, 129 लोगों के संपर्क में आया

सदन को मछली बाजार न बनाएं : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सदन में अव्यवस्था पर नाराजगी जताते हुए विपक्षी सदस्यों से अपील की कि वे अपनी बातों को एक-एक कर रखें, वे क्या बोल रहे हैं, समझ में नहीं आ रहा है, ऐसे में सवाल का जवाब देना मुश्किल होता है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी सदस्य सदन को मछली बाजार न बनाएं. मुख्यमंत्री के इस वक्तव्य के बाद फिर से भाजपा के कई सदस्य वेल में आकर शोर-शराबा करने लगे. बाद में विधानसभा अध्यक्ष के समझाने के बाद प्रश्नोत्तरकाल की कार्यवाही आगे बढ़ सकी.

इसे भी पढ़ें: झारखंड हाई कोर्ट में अगले 15 दिनों तक सिर्फ जरूरी मामले सुने जाएंगे

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.