CBSE 10th result 2018: गुरुग्राम के प्रखर मित्तल समेत चार को 500 में 499 अंक

by

#NEW DELHI : सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने मंगलवार को दसवीं के नतीजे घोषित कर दिए. नतीजे बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट इस लिंक पर क्लिक करके चेक कर सकते हैं.

12वीं के बाद 10वीं में भी एनसीआर का दबदबा कायम रहा. इस साल बोर्ड परीक्षा में गुरुग्राम के प्रखर मित्तल समेत चार छात्रों ने शीर्ष स्थान हासिल किया है. इन सभी को 500 में 499 अंक मिले हैं यानी 99.8 फीसदी अंक.
पहली बार नतीजे अंक फीसदी में

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने आठ साल से लागू कंटीन्यूअस एंड कॉम्प्रिहेंसिव इवेल्यूएशन (सीसीई) को हटाने के बाद पहली बार 10वीं का परीक्षा परिणाम अंक फीसदी में जारी किया है. ऐसा पहली बार है कि सीबीएसई ने शीर्ष स्थान पर चार विद्यार्थियों के नाम की घोषणा की है.

शीर्ष चार में तीन छात्राएं : 
बोर्ड ने बताया कि डीपीएस गुरुग्राम के प्रखर मित्तल, आरपी पब्लिक स्कूल बिजनौर की रिमझिम अग्रवाल, स्कॉटिश इंटरनेशनल स्कूल शामली की नंदिनी गर्ग और भवन विद्यालय कोच्चि की श्रीलक्ष्मी जी ने 499 अंक हासिल कर शीर्ष स्थान पाया है. सात छात्रों ने 498 अंकों के साथ दूसरा स्थान प्राप्त किया है जबकि 14 छात्र 497 अंक हासिल कर तीसरे स्थान पर रहे. पहले तीन स्थानों पर आए 25 छात्रों में 17 लड़कियां और आठ लड़के हैं लेकिन इनमें दिल्ली का एक भी परीक्षार्थी नहीं है. इस बार 16 लाख से ज्यादा छात्रों ने पंजीकरण कराया था. बोर्ड परीक्षा में 1,86,067 छात्रों को पूरक मिला है.

गुरुग्राम की अनुष्का और गाजियाबाद की सान्या दिव्यांगों में अव्वल : 
दिव्यांग छात्रों का उत्तीर्ण प्रतिशत 92.55 रहा. इस श्रेणी में सन सिटी, गुरुग्राम की अनुष्का पांडा और गाजियाबाद के उत्तम स्कूल की सान्या गांधी ने 500 में से 489 अंक हासिल कर शीर्ष स्थान पाया. ओडिशा में धनपुर के जेएनवी की सौम्या दीप प्रधान ने 484 अंकों के साथ दूसरा स्थान हासिल किया. बोर्ड ने बताया कि दिव्यांग श्रेणी में 135 अभ्यर्थियों ने 90 फीसदी और उससे अधिक अंक हासिल किए जबकि 21 छात्रों ने 95 फीसदी और उससे अधिक अंक हासिल किए.

दिल्ली में 78.62 फीसदी छात्र पास :
बोर्ड ने कहा कि 1,31,493 अभ्यर्थियों ने 90 प्रतिशत और उससे अधिक अंक प्राप्त किए जबकि 27,426 अभ्यर्थियों ने 95 प्रतिशत और उससे अधिक अंक हासिल किए. 99.60 फीसदी उत्तीर्ण प्रतिशत के साथ तिरुवनंतपुरम, 97.37 फीसदी चेन्नई और 91.86 फीसदी पास प्रतिशत के साथ अजमेर सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले शीर्ष तीन क्षेत्र रहे. दिल्ली में 78.62 प्रतिशत छात्र पास हुए.

पर्चा लीक के कारण विवादों में परीक्षा : 
दिल्ली-एनसीआर और झारखंड से प्रश्न पत्र लीक होने की खबरों के कारण इस बार बोर्ड की परीक्षाएं विवादों के घेरे में रही. मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने छात्रों के हितों में दसवीं कक्षा की गणित की परीक्षा फिर से नहीं कराने का फैसला किया था.

लड़कियों ने बाजी मारी 
-88.67 फीसदी लड़कियां सफल रहीं
-85.32 प्रतिशत लड़के पास
2018 में 86.70 फीसदी छात्र उत्तीर्ण
2017 में 90.95 फीसदी छात्र पास हुए थे

जेएनवी का दबदबा 
-97.31 प्रतिशत छात्र पास जवाहर नवोदय विद्यालय (जेएनवी) के
-95.96 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण केंद्रीय विद्यालय (केवी) के
-89.49 प्रतिशत छात्र पास निजी स्कूलों के
-73.46 छात्र उत्तीर्ण सरकार से सहायता प्राप्त स्कूलों के
-63.97 प्रतिशत छात्र पास सरकारी स्कूलों के

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.