CBI घूसकांडः CVC की जांच रिपोर्ट पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

by

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट आज सीबीआई घूसकांड से जुड़े आलोक वर्मा केस की सुनवाई करेगी. सीवीसी ने इस मामले में अपनी जांच रिपोर्ट बीते सोमवार को सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी थी, जिसके बाद कोर्ट ने अगली सुनवाई की तारीख 16 नवंबर तय की थी.

अलोक वर्मा ने सीबीआई डायरेक्टर के अधिकार उनसे वापस लेने, उन्हें छुट्टी पर भेजने और सीबीआई डायरेक्टर की जिम्मेदारी ज्वॉइंट डायरेक्टर एम नागेश्वर राव को सौंपने के आदेश को कोर्ट में चुनौती दी है.

बता दें कि आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना ने एक दूसरे पर घूसखोरी का आरोप लगाया था. इसके बाद सीबीआई की किरकिरी होते देख सरकार ने यह कदम उठाया था.

CVC ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की आलोक वर्मा पर रिपोर्ट

केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) ने CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा के खिलाफ उनके स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना द्वारा लगाए गए आरोपों की प्रारंभिक जांच की रिपोर्ट बीते सोमवार को सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी थी.

सीजेआई रंजन गोगोई और जस्टिस श्याम किशन कौल की पीठ के समक्ष एक अन्य रिपोर्ट भी पेश की गई है. यह रिपोर्ट वर्मा के स्थान पर कार्यभार संभाल रहे कार्यवाहक सीबीआई डायरेक्टर एम.नागेश्वर राव द्वारा लिए गए फैसलों पर जमा की गई है. खंडपीठ आज इस मामले पर सुनवाई करेगी.

CVC से मुलाकात के बाद CBI प्रमुख वर्मा ने भ्रष्टाचार के आरोपों से किया था इंकार

सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा ने बीती 8 नवंबर को केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त केवी चौधरी से मुलाकात की थी. ऐसा माना जा रहा है कि उन्होंने जांच एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना द्वारा उन पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों से इंकार किया था.

CVC ने सुप्रीम कोर्ट को सीलबंद लिफाफे में सौंपी रिपोर्ट

केंद्रीय सतर्कता आयोग ने अपनी जांच रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी है. सुप्रीम कोर्ट ने बीते 26 अक्टूबर को केन्द्रीय सतर्कता आयोग (CVC) को निर्देश दिया था कि CBI के डायरेक्टर आलोक वर्मा के खिलाफ आरोपों की जांच दो सप्ताह के भीतर पूरी की जाये. यह जांच सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश एके पटनायक की निगरानी में होनी थी.

अलोक वर्मा ने सीबीआई डायरेक्टर के अधिकार उनसे वापस लेने, उन्हें अवकाश पर भेजने और सीबीआई डायरेक्टर की जिम्मेदारी ज्वॉइंट डायरेक्टर एम नागेश्वर राव को सौंपने के आदेश को कोर्ट में चुनौती दी है.

स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना पर लगे घूसखोरी के आरोपों की जांच कर रहे सीबीआई के डिप्टी एसपी एके बस्सी का ट्रांसफर कर दिया गया था, 30 अक्टूबर को उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर को चुनौती दी.

सुप्रीम कोर्ट ने सीवीसी को सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा के खिलाफ जांच कर दो हफ्ते में रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए थे.

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि एम नागेश्वर राव सीबीआई के अंतरिम डायरेक्टर बने रहेंगे, लेकिन नीतिगत फैसले नहीं ले सकेंगे.

सीबीआई की अंदरूनी कलह बाहर आने के बाद केंद्र सरकार ने डायरेक्टर आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया था.

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.