झारखंड के पूर्व मंत्री हरिनारायण राय अपनी पत्नी के साथ गिरफ्तार

by

Dumka: झारखंड के पूर्व मंत्री हरिनारायण सिंह को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है. यह कार्रवाई 1.46 करोड़ रुपये के आय से अधिक संपत्ति के मामले में की गई है. साथ में उनकी पत्नी सुशीला देवी को भी गिरफ्तार किया गया है. दोनों की गिरफ्तारी हरिनारायण राय के ससुराल दुमका जिले के टोंगरा थाना क्षेत्र के तरनी गांव से हुई है.

तरनी हरिनारायण राय का ससुराल है. हाई कोर्ट से गत माह चार नवंबर को अपील खारिज करते हुए निचली अदालत की सजा को बरकरार रखा था.

Read Also  लॉकडाउन के लिए झारखंड सचिवालय कर्मियों ने दी सामूहिक अवकाश पर जाने की चेतावनी

पूर्व मंत्री हरिनारायण राय के अलावा उनकी पत्नी सुशीला देवी और भाई संजय कुमार राय की ओर से दाखिल अपील को भी अदालत ने खारिज कर दिया था. अपील खारिज होने के बाद आत्मसमर्पण नहीं करने पर हरिनारायण राय व उनकी पत्नी गिरफ्तार किए गए हैं.

आत्‍मसर्पण नहीं करने पर हुई गिरफ्तारी

सीबीआई की टीम उन्हें गुरुवार को फिर जेल भेज देगी. सीबीआई की विशेष अदालत ने दिसंबर 2016 में 1.46 करोड़ के आय से अधिक संपत्ति के मामले में पूर्व मंत्री हरिनारायण राय, उनकी पत्नी सुशीला देवी व भाई संजय कुमार को पांच-पांच साल की सजा सुनाई थी.

सीबीआई कोर्ट के फैसले के खिलाफ तीनों ने हाई कोर्ट में अपील दायर की थी. अपील के आधार पर ही पूर्व मंत्री सहित तीनों को जमानत मिल गई थी, लेकिन अपील खारिज होने के बाद पूर्व मंत्री को आत्मसमर्पण करने का आदेश हुआ था. आत्मसमर्पण नहीं करने पर ही सीबीआई ने उन्हें गिरफ्तार किया.

Read Also  झारखंड में कोरोना से 1 दिन में रिकॉर्ड 56 मौतें, 3840 नए संक्रमित मरीज मिले

गौरतलब है कि हरिनारायण राय 2005 से 2009 तक विधायक व मंत्री रहते हुए आय से अधिक संपत्ति अर्जित की थी. पहले इस मामले की जांच झारखंड की निगरानी ब्यूरो कर रही थी. वर्ष 2010 में सीबीआई ने इस केस को टेकओवर किया था.

मनी लाउंड्रिंग मामले में हो चुकी है सात साल की सजा

पूर्व मंत्री हरिनारायण राय के खिलाफ सीबीआई आय से अधिक संपत्ति मामले की जांच की तो प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मनी लाउंड्रिंग एक्ट में पूरे मामले का अनुसंधान किया. ईडी की विशेष अदालत से 4.33 करोड़ रुपये के मनी लाउंड्रिंग मामले में पूर्व मंत्री हरिनारायण राय को सात साल की सजा हो चुकी है. इस सजा के खिलाफ भी पूर्व मंत्री ने हाई कोर्ट में अपील की है, जो फिलहाल लंबित है. इस मामले में भी हरिनारायण राय को हाई कोर्ट से जमानत की सुविधा मिली है.

Read Also  झारखंड में लर्नर लाइसेंस (LL) एवं ड्राइविंग लाइसेंस (DL) की प्रक्रिया तत्काल प्रभाव से स्थगित

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.