बंगाल के सिलीगुड़ी में चुनावी रैली में फायरिंग से बीजेपी कार्यकर्ता उलेन रॉय की मौत

by

Siliguri (WB): पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 के लिए राज्‍य में सियासत गर्म है. ताबड़तोड़ चुनावी सभाएं हो रही हैं. इस बीच अब यहां हिंसक घटनाओं के मामले भी सामने आ रहे हैं. मीडिया में चली खबरों के अनुसार सिलीगुड़ी शहर में एक रैली के दौरान फायरिंग हुई और एक बीजेपी (BJP) कार्यकर्ता की मौत हो गई. रैली में अचानक से हिंसा हुई और फायरिंग शुरू हो गई. रैली में हुई हिंसा को लेकर बंगाल पुलिस ने बीजेपी के राष्ट्रीय और राज्य नेताओं पर आईपीसी की धारा के तहत केस दर्ज किया है.

Read Also  राष्ट्रपति चुनाव: एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को जेएमएम के वोट से जीत हार पर क्या फर्क पड़ेगा?

बीजेपी कार्यकर्ता उलेन रॉय की मौत

दरअसल उत्तर बंगाल के सचिवालय और उत्तर कन्या की ओर जाने वाले दो जुलूसों को रोकने के दौरान बीजेपी और पुलिस के बीज में हिंसक झड़प हुई. इस दौरान बीजेपी कार्यकर्ता उलेन रॉय की मौत हो गई. अब बीजेपी नेताओं ने इसके लिए पुलिस को जिम्मेवार ठहराया है.

बीजेपी ने पुलिस पर लगाया गोली चलाने का आरोप

बीजेपी नेताओं का कहना है कि पुलिस की गोली से रॉय की मौत हुई है, वहीं पुलिस का कहना है कि रॉय की मौत पुलिस की गोली से नहीं बल्की किसी और गोली से हुई है.

पुलिस ने ये भी कहा है कि रैलियों में लोग हथियार के साथ आ रहे थे. वहीं बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और राष्ट्रीय सूचना और प्रौद्योगिकी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने अपनी बात को सिद्ध करने के लिए अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से बंदूक दिखाते हुए एक पुलिसकर्मी का वीडियो पोस्ट किया. हालांकि वीडियो किस स्थान का है ये स्पष्ट नहीं हो पाया है. वहीं पुलिसकर्मी बंदूक चलाते नजर नहीं आ रहा है.

Read Also  राष्ट्रपति चुनाव: एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को जेएमएम के वोट से जीत हार पर क्या फर्क पड़ेगा?

पुलिस ने नहीं बताया किन धाराओं में किया केस दर्ज

वहीं इस मामले में के न्यू जलपाईगुड़ी पुलिस स्टेशन में केस दर्ज करने वाले पुलिस अधिकारियों ने उन धाराओं के विषय में बताने से इनकार कर दिया जिनके तहत केस दर्ज किया गया है. हालांकि जिन नेताओं के खिलाफ केस दर्ज हुआ है उनका नाम सार्वजनिक कर दिया गया है.

Read Also  राष्ट्रपति चुनाव: एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को जेएमएम के वोट से जीत हार पर क्या फर्क पड़ेगा?

इन नेताओं में कैलाश विजयवर्गीय, दिलीप घोष, भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्य, भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष सौमित्र खान इसके साथ ही सभी सात बीजेपी लोकसभा सदस्य के नाम शामिल हैं. बहीं बीजेपी का कहना है कि जिन नेताओं का नाम एफआईआर में है उनमें से कई रैलियों में शामिल ही नहीं थे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.