रांची में भोपाल मॉडल 25 लाख में, कचरा प्रबंधक इम्तियाज अली के टिप्स

by

Ranchi: रांची में कचरा प्रबंधन की बहुत बुरी स्थिति है. यहां का कचरा झिरी के डंपिंग यार्ड में डाला जाता है. वहां के हालात बहुत भयावह हैं. प्‍लास्टिक और आम कचरा का पहाड़ बन गया है. भोपाल के पर्यावरणविद और कचरा प्रबंधक इम्तियाज अली ने रांची के साफ-सफाई के हालात देखे. उन्‍होने झिरी के डंपिंग यार्ड का भी मुआयना किया. इसके बाद उन्‍होंने लोकल खबर के साथ खास बातचीत की.

प्‍लास्टिक के जानलेवा खतरे से एक करोड़ के खर्च से बच जाएगी रांची

इम्‍तियाज अली ने कहा कि रांची में कचरा प्रबंधन की व्‍यवस्‍था नहीं होने से आने वाले दिनों में धीरे-धीरे यह विकराल रूप ले सकती है. उन्‍होंने बातचीत में रांची नगर निगम को इस पर सुझाव भी देने की बात कही. उन्‍होंने बताया कि भोपाल और इन्‍दौर के मॉडल को रांची के लिए शुरू करने के लिए प्रति यूनिट 25 लाख रुपये खर्च होंगे. रांची की आबादी के हिसाब से 4 यूनिट शुरू करके भोपाल के जैसा कचरा प्रबंधन किया जा सकता है. आप वीडियो में देखिए इम्तियाज अली का पूरा इंटरव्‍यू.

Read Also  झारखंड में अब अपराध से जुड़े सुराग और सबूतों की ऑन द स्‍पॉट होगी जांच

इम्तियाज अली का परिचय

इम्तियाज अली लम्बे समय से वेस्ट मैनेजमेंट को लेकर काम कर रहे हैं और उनके किए गए प्रयोगों को देश-विदेश में अपनाया गया है. उनके द्वारा खराब और वेस्ट प्लास्टिक/पॉलीथिन से सड़क तैयार करने की योजना अब पूरे देश में अपनाई जा रही है.

मूलतः भोपाल के निवासी इम्तियाज अपने प्रयोग और उपलब्धियों के लिए अब तक कई राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजे जा चुके हैं. राष्ट्रपति की अनुशंसा पर जेएनयू प्रबंधन ने उन्हें तीन साल के लिए कोर्ट ऑफ मेम्बर नियुक्त किया है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.