पहली फरवरी से बैंक, बीमा, एटीएम, डीटीएच, रसोई गैस, WhatsApp पर असर

New Delhi: साल 2020 के पहली फरवरी से हमारे और आपके जिंदगी से जुड़े कई खास चीजें प्रभावित होने जा रही हैं. पहली बात तो ये कि एक फरवरी को केन्‍द्र सरकार वित्‍तीय वर्ष 2020 के लिए बजट पेश करने जा रही हैं.

वहीं 1 फरवरी से कई नियमों से कई बदलाव हो रहे है जो आम जन को प्रभावित करेंगे. 1 फरवरी 2020 से बदलाव हो रहे है उससे जहां एक ओर आपको राहत मिलेगी, वहीं अगर आपने कुछ बातों का ध्यान नहीं रखा तो आपको आर्थिक नुकसान भी हो सकता है. जानिए उन बदलावों के बारे में…

बेकार हो जाएगा डाक विभाग का ये एटीएम

डाक विभाग ने बचत खाताधारकों से अपना मोबाइल नंबर अपडेट करने और 31 जनवरी तक मौजूदा मैग्नेटिक एटीएम कार्ड को नए ईएमवी चिप आधारित कार्ड से बदलने के लिए कहा. मैग्नेटिक कार्ड की तुलना में ईएमवी चिप वाला कार्ड ज्यादा सुरक्षित होता है.

डाक विभाग की एक अधिसूचना के मुताबिक, ऐसा नहीं करने वालों का कार्ड 1फरवरी से ब्लाक हो जाएगा.लेकिन घबराने की जरुरत नहीं है ऐसे ग्राहक डाक विभाग के ग्राहकों अपनी घरेलू शाखा में जाकर एटीएम कार्ड बदल सकते हैं और मोबाइल नंबर अपडेट करा सकते हैं.

डीटीएच देखना जेब पर पड़ेगा भारी

एक फरवरी को आपको टीवी पर डीटीएच देखना मंहगा पड़ेगा क्योंकि टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉलिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) का नया नियम फरवरी से लागू हो रहा हैं. ब्रॉडकास्टर्स से इस नए नियम को 29 दिसंबर से ही लागू करने को कहा गया था, लेकिन इसे स्थगित कर दिया गया.

ट्राई ने भारत के सभी डीटीएच और केबल ऑपरेटर्स को आदेश दिया है कि वो नए नियम को फॉलो करें. नए रेग्यूलेशन के तहत कस्टमर्स सिर्फ उन चैनल्स के लिए पैसे देंगे जो उन्हें देखने होंगे. इससे पहले तक ऐसा नहीं था.

नए नियम के बाद टीवी सब्सक्रिप्शन के तरीके बदल जाएंगे. 100 चैनल की नेटवर्क कैपेसिटी के लिए 130 रुपये देंगे और अगर इनमें कोई पेड चैनल है तो आपके इसके पैसे अलग से देने होंगे. इसके बाद 18% जीएसटी भी लगेगी.

जाहिर है आपको पैसे नहीं देने होंगे, लेकिन पेड चैनल के लिए पैसे देने होंगे. ये चैनल पर डिपेंड करता है वो कितने का है. इस तरह आपकी बिल में 130 रुपये के अलावा उन चैनल का सब्सक्रिप्शन चार्ज जुड़ जाएगा. टोटल बिल पर 18% जीएसटी लगेगा और आपका बिल तैयार होगा.

बढ़ सकते हैं सिलेन्‍डर के दाम

पहले बता दें 2020 की शुरुआत के साथ ही बिना सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर के मूल्य में 19 रुपये की बढ़ोतरी की गई थी. ये बढ़ोतरी गैर सब्सिडी वाले सिलिंडरों के लिए की गई थी. इसके अलावा विमान ईंधन के दामों में भी 2.6 फीसदी की बढ़ोतरी की गई थी. ये कदम अंतरराष्ट्रीय दामों में आई तेजी की वजह से उठाया गया है.

अंतराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल की कीमतें बढ़ने के कारण एक बार फिर एक फरवरी को रसोई गैस सिलिंडर के दाम बदल जाएंगे. बता दें हर महीने की पहली तारीख को रसोई गैस सिलिंडर और हवाई तेल के दाम बदलते हैं.

बता दें गैर सब्सिडी वाला 14.2 किलो वाला सिलिंडर, जो पहले 695 रुपये में मिलता था, वह जनवरी में 714 रुपये का हो गया था. यह बढ़ोत्तरी एक जनवरी, 2020 से प्रभावी हुई. सितंबर, 2019 के कुकिंग गैस में आने वाली गैस में यह पांचवी बढ़ोतरी थी. बीते पांच महीनों में इसके दाम 139.50 रुपये तक बढ़े हैं.

एलआरसी बंद कर रहा अपनी पॉलिसी

भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) 31 जनवरी की रात अपनी 23 पॉलिसी बंद करने जा रही है. जिसमें जीवन आनंद, जीवन लक्ष्‍य, जीवन तरुण, जीवन उमंग समेत एलआईसी की 23 पॉलिसियां एक फरवरी से मिलना बंद हो जाएगी. एलआईसी ने यूनिट लिंक्ड प्लान न्यू एनडाउमेंट प्लस को भी बंद करने का फैसला किया है. यानी की 1 फरवरी के बाद आप ये पॉलिसी नहीं करवा सकेंगे.

बता दें ऐसा इसलिए हो रहा क्योंकि आईआरडीए ने जीवन बीमा कंपनियों को उन पॉलिसी को वापस लेने का आदेश दिया है, जो नए प्रोडक्ट नए गाइडलाइंस के अनुरूप नहीं है. आईआरडीए ने पहले 30 नवबंर तक का समय दिया था, लेकिन बीमा कंपनियों के अनुरोध पर उन्हें दो महीने का समय दे दिया था. जो अवधि 31जनवरी को समाप्‍त हो जाएगी.

बंद होने वाली योजनाएं नीचे दी जा रही हैं- 

  • एलआईसी भाग्यलक्ष्मी प्लान
  • एलआईसी आधार स्तंभ
  • एलआईसी आधार शिला
  • एलआईसी जीवन उमंग
  • एलआईसी जीवन शिरोमणि
  • एलआईसी बीमा श्री
  • एलआईसी माइक्रो बचत
  • एलआईसी न्यू एंडोमेंट प्लस (यूलिप)
  • एलआईसी प्रीमियम वेवर राइडर (राइडर)
  • एलआईसी न्यू ग्रुप सुपरएन्युएशन कैश एक्युमुलेशन प्लान (ग्रुप प्लान)
  • एलआईसी न्यू ग्रुप ग्रेच्युटी कैश एक्युमुलेशन प्लान (ग्रुप प्लान)
  • एलआईसी न्यू ग्रुप लीव इनकैशमेंट प्लान (ग्रुप प्लान)
  • एलआईसी सिंगल प्रीमियम एंडोमेंट प्लान
  • एलआईसी न्यू एंडोमेंट प्लान
  • एलआईसी न्यू मनी बैक-20 साल
  • एलआईसी न्यू जीवन आनंद
  • एलआईसी अनमोल जीवन-II
  • एलआईसी लिमिटेड प्रीमियम एंडोमेंट प्लान
  • एलआईसी न्यू चिल्ड्रंस मनी बैक प्लान
  • एलआईसी जीवन लक्ष्य
  • एलआईसी जीवन तरुण
  • एलआईसी जीवन लाभ प्लान 
  • एलआईसी न्यू जीवन मंगल प्लान

75 लाख स्मार्टफोन में काम नहीं करेगा WhatsApp

व्हाट्सएप 1 फरवरी 2020 से लाखों स्मार्टफोन पर अपना सपोर्ट बंद कर रहा है. ऐसे में पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम वाले स्मार्टफोन यूजर्स को हर हाल में 31 जनवरी 2020 तक नया स्मार्टफोन खरीदना होगा. 1 फरवरी 2020 से व्हाट्सएप एंड्रॉयड के वर्जन 2.3.7 वाले स्मार्टफोन और आईओएस 7 वाले आईफोन पर व्हाट्सएप काम नहीं करेगा.

कंपनी ने कहा है कि उसके इस फैसले का असर अधिक यूजर्स पर नहीं पड़ेगा, क्योंकि अधिकतर यूजर्स के पास नया फोन है. कंपनी ने एक बयान में कहा है कि एंड्रॉयड के किटकैट यानी 4.0.3 वर्जन या इससे ऊपर के वर्जन वाले स्मार्टफोन में व्हाट्सएप का सपोर्ट मिलेगा, लेकिन इससे नीचे वाले वर्जन वाले स्मार्टफोन यूजर व्हाट्सएप का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे.

बता दें कि इससे पहले कंपनी ने नोकिया सैंबियन एस60 में 30 जून 2017, ब्लैकबेरी ओएस और ब्लैकबेरी 10 में 31 दिसंबर 2017, नोकिया एस40 में 31 दिसंबर 2018 के बाद सपोर्ट बंद कर दिया है.

बैंकों की रहेगी हड़ताल नहीं होगा कोई काम

फरवरी के पहले सप्‍ताह में सप्ताह लगातार तीन दिनों तक देश में बैंक बंद रहने वाले हैं. बता दें 31 जनवरी से बैंक यूनियनों ने दो दिन की हड़ताल की घोषणा की है. यानी 31 जनवरी और एक फरवरी 2020 को हड़ताल के चलते बैंक बंद रहेंगे. वहीं दो फरवरी को रविवार है, इसलिए उस दिन भी आप बैंक का कोई कामकाज नहीं कर पाएंगे.

दिल्ली प्रदेश बैंक कर्मचारी संगठन के महासचिव अश्वनी राणा ने बताया कि इंडियन बैंक एसोसिएशन ने वेतन में 12.5 फीसदी वृद्धि करने का प्रस्ताव दिया है, जो कि मंजूर नहीं है. इसलिए देश भर के सभी सरकारी बैंकों में कार्यरत कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे. इससे बैंकिंग सेवाओं पर असर पड़ सकता है.

ब्याज दरें स्थिर रख सकता है आरबीआई

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की अगली समीक्षा बैठक छह फरवरी को होनी है. खुदरा महंगाई के आंकड़ों के चलते आरबीआई को अपनी अगली मौद्रिक नीति समीक्षा में प्रमुख नीतिगत (रेपो) दरों में कोई बदलाव नहीं करने को मजबूर हो सकता है. दिसंबर में खुदरा महंगाई 7.35 फीसदी रही है और जनवरी में यह आठ फीसदी के स्तर से ज्यादा हो सकती है.

इस संदर्भ में एसबीआई रिसर्च रिपोर्ट ‘इकोरैप’ ने कहा था कि, ‘आरबीआई ने दिसंबर में भी रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया था, जब अक्तूबर में खुदरा महंगाई 4.62 फीसदी रही थी. अब दिसंबर में खुदरा महंगाई खासी ज्यादा हो गई है और जनवरी में इसके आठ फीसदी से ऊपर जाने का अनुमान है. ऐसे में आरबीआई अगली मौद्रिक नीति में दरें स्थिर रख सकता है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.