वडोदरा में लगा गोलगप्पों पर बैन, मानसून तक जारी रहेगी रोक

by

#Vadodara : गुजरात के वडोदरा शहर में नगर निगम प्रशासन ने गोलगप्पों पर बैन लगा दिया है. अब यहां के लोगों के लिए गोलगप्पेग खाने पर रोक लग गया है. यह वही गोपलगप्पाो है जो कई राज्यों और शहरों में पानी पूरी, बताशे, पुचका आदि के नाम से लोग चटखारे लेकर खाते हैं. लेकिन गुजरात के वडोदरा शहर में इन दिनों लोगों को गोलगप्पों के नाम से ही डर लग रहा है.

यहां वडोदरा म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने गोलगप्पों के लिए इस्तेमाल हो रही सड़ी हुई खाद्य सामग्री को बड़े पैमाने पर जब्त किया है. वडोदरा शहर में गोलगप्पों की बिक्री पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है जो मानसून खत्म होने तक जारी रहेगी.

गोलगप्पा के खिलाफ वडोदरा में छापामारी

शहर में गोलगप्पे बनाने और बेचने वालों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की गई. वडोदरा म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के जरिए स्वास्थ्य अधिकारियों ने इस छापेमारी में तेल, सड़ा हुआ आटा, सड़े हुए आलू-चना जब्त किए जिनका इस्तेमाल गोलगप्पे बनाने और बेचने में किया जा रहा था.

वडोदरा के हुजरात पागा, हाथीखाना, तुलसीवाडी, समा, छाणीगाँव, खोडियारनगर, नवायार्ड, वारसीया नरसिंह टेकरी, सुदामा नगर जेसे इलाकों में गोलगप्पे बनाने वाले 50 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी की गई. इस दौरान गोलगप्पे बनाने की 4000 किलो गोलगप्पे, 3500 किलो आलू-चना, 20 किलो तेल ओर 1200 लीटर एसिड वाला पानी जब्त किया गया.

दूषित गोलगप्पा से फैल रही बिमारियां

वडोदरा म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि मानसून के चलते शहर में पानी से फैल रही बीमारियों को रोकने और स्वच्छता अभियान के तहत गोलगप्पों की बिक्री पर पूरी तरह रोक लगाई गई है. दूषित गोलगप्पों और उसके पानी से टाइफाइड, पीलिया, फूड पायजनिंग का खतरा रहता है.

जब्त किए सारे सामान को नष्ट कर दिया गया. स्वास्थ्य की दृष्टि से शुरू किए गए इस अभियान को वडोदरा के लोगों से भी सराहना मिल रही है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.