शिव-गंगा में स्नान पर भी रोक, देवघर-दुमका में बाहर से नहीं आएगी बस

Ranchi: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले के आयोजन को इस वर्ष स्थगित रखने के निर्णय के साथ ही श्रद्धालुओं की उमड़ने वाली संभावित भीड़ के मद्देनजर कई सख्त एहतियाती कदम उठाने का निर्देश दिया है. मुख्यमंत्री ने श्रावणी मेला के मद्देनजर गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से देवघर और दुमका के उपायुक्तों को कई अन्य आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिया.

शिव-गंगा के चारों ओर से बैरिकेटिंग करने का निर्देश

मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि शिव-गंगा में किसी को स्नान करने नहीं दें और चारों ओर बैरीकेडिंग करें. साथ ही सूचना तंत्र को सशक्त करें, ताकि श्रद्धालु एक जगह जमा न हो सकें. वहीं किसी भी राज्य से बस देवघर और दुमका की सीमा तक न आने पाये और झारखण्ड की सीमा पर सूचना पट्ट लगाएं, जिससे पता चल सके कि श्रावणी मेला का आयोजन संक्रमण की वजह से स्थगित है.

मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि मंदिर परिसर में किसी तरह की भीड़ न हो, इसके लिए पंडा समाज के लोग और जन प्रतिनिधियों का सहयोग लें.

उन्होंने अधिकारियों को यह भी निर्देश दिया कि पूरी सतर्कता और तय समय में प्रोटोकॉल का तहत पूजन का कार्य सुनिश्चित हो, अन्य गतिविधियों पर पूर्ण पाबंदी रखें.

सरकार कोई जोमिख नहीं लेना चाहती

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार लोगों के बेहतर स्वास्थ्य के प्रति गंभीर है.

उन्होंने कहा कि सरकार संक्रमण काल में लोगों के स्वास्थ्य को लेकर किसी तरह का जोखिम नहीं लेना चाहती, जिससे झारखण्ड महामारी के बुरे दौर में चला जाये.

सोरेन ने कहा कि संक्रमण को हल्के में नहीं लेना है. इसके प्रति गंभीरता जरूरी है. पूरी सतर्कता से कार्य करना है. इस वजह से राज्य सरकार ने श्रावणी मेला का आयोजन इस वर्ष नहीं करने का निर्णय लिया है.

मंदिर परिसर में मरम्मत व अन्य कार्य पूरा करने का निर्देश

मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी संक्रमण का दौर है और मंदिर में श्रद्धालु नहीं आ रहें हैं. प्रोटोकॉल के तहत सिर्फ पुजारी भगवान की आराधना कर रहें हैं. श्रद्धालु नहीं आ रहें हैं, ऐसे में दुमका और बासुकीनाथ मंदिर परिसर के भीतरी और बाहरी परिसर का निरीक्षण जिला प्रशासन करे, जहां भी किसी तरह की मरम्मत, निर्माण, बदलाव और श्रद्धालुओं की सुविधाओं को देखते हुए कार्य करने की आवश्यकता हो तो यथाशीघ्र करें. बाबा मंदिर और बासुकीनाथ मंदिर का रंग-रोगन कर मंदिर को और भव्यता प्रदान करें. पूरे मंदिर परिसर को हाई जेनिक बनाएं.

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, पुलिस महानिदेशक एमवी राव, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, पर्यटन सचिव पूजा सिंघल, उपायुक्त दुमका, उपायुक्त देवघर, पुलिस अधीक्षक देवघर, पुलिस अधीक्षक दुमका व अन्य उपस्थित थे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.