अमिताभ बच्चन को मिला दादा साहेब फाल्के पुरस्कार

अमिताभ बच्चन को मिला दादा साहब फाल्के पुरस्कार

New Delhi: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को भारतीय सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन को दादा साहब फाल्के पुरस्कार प्रदान किया. इस दौरान 77 वर्षीय अमिताभ ने साफ कर दिया कि फिलहाल वह सन्यास लेने के मूड में नहीं हैं.

इस मौके पर सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावेडकर भी मौजूद थे. अमिताभ बच्चन के पूरे परिवार के सदस्यों के राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के जूरी मेंबर अशोक शरण और सेंसर बोर्ड के सदस्य भी शामिल थे.

राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक सादे समारोह में पुरस्कार ग्रहण करने के बाद अमिताभ बच्चन ने अपने संक्षिप्त संबोधन में देश की जनता के अपार स्नेह के लिए धन्यवाद करते हुए कहा कि मैं विनम्रता से पुरस्कार को स्वीकार करता हूं. उन्होंने कहा कि दादा साहब फाल्के पुरस्कार की शुरुआत लगभग पांच दशक पूर्व हुई थी और लगभग उतने ही समय से वह सिनेमा जगत में सक्रिय हैं.

Read Also  India South Africa T20 रांची मैच के लिए टिकट दर 1100 से 10 हजार, जानिए टिकट खरीदने के जरूरी नियम

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि जब इस पुरस्‍कार की घोषणा हुई तो उनके मन में एक संदेह उठा कि क्‍या कहीं यह पुरस्‍कार इस बात का संकेत तो नहीं है कि भाई साहब बहुत काम कर लिया, अब घर बैठ के आराम कर लीजिए. क्योंकि अभी भी थोड़ा काम बाकी है जिसे मुझे पूरा करना है. अमिताभ के इस कथन को सुनते ही राष्ट्रपति भवन का दरबार हाल वहां मौजूद लोगों की हंसी से गूंजने लगा.

उल्लेखनीय है कि दादा साहेब फाल्के को भारतीय सिनेमा का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है. इसकी शुरुआत दादा साहब फाल्के के जन्मशताब्दी वर्ष 1969 में हुई थी. केंद्र सरकार की ओर से यह पुरस्कार किसी व्यक्ति विशेष को सिनेमा क्षेत्र में उसके आजीवन योगदान के लिए दिया जाता है.

Read Also  Jharkhand Mob Lynching: भीड़ ने गुमला के एजाज खान को पीट-पीटकर मार डाला

इस साल सितंबर में अभिनय के जरिये एक आम आदमी की व्यथा, वेदना, हर्ष और संघर्ष को उकेरने वाले अमिताभ बच्चन को यह पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई थी. जंजीर, दीवार और शोले जैसी फिल्मों के माध्यम से युवा पीढ़ी के क्रोध को अभिव्यक्ति देने के कारण उन्हें सिनेमा जगत के एंग्रीयंग मैन का खिताब मिला. साल 2000 से टीवी शो कौन बनेगा करोड़पति भी को होस्ट कर हरे हैं. वह पोलिया और स्वच्छ भारत मिशन जैसे सामाजिक सरोकार से जुड़े मुद्दों पर लोगों को जागरुक करने में भी योगदान दे रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि बच्चन स्वास्थ्य कारणों से राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में शामिल नहीं हो पाए थे. ऐसे में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने उन्हें अलग से सम्मानित करने की घोषणा की थी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top
OTT पर खूंखार हो चली ये Hot Actress प्‍यार वाला राशिफल: 5 अक्‍टूबर 2022 Adipurush में प्रभास बने श्रीराम, टीजर का मजाक उड़ा प्‍यार वाला राशिफल: 4 अक्‍टूबर 2022 रांची के TOP Selfie Pandal