अमेरिका ने कहा- और सैन्‍य कार्रवाई भारत-पाक के लिए जोखिम भरा

by

New Delhi: भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है. इस पर अमेरिका ने चिंता व्‍यक्त की है. बुधवार को यूएस ने इन परमाणु शक्ति संपन्न दोनों देशों से तनाव कम करने के लिये तुरंत कदम उठाने की अपील की. साथ ही अमेरिका ने आगाह किया कि आगे से किसी भी ओर से की गई सैन्य कार्रवाई से दोनों देशों के लिए जोखिम की आशंका है. जिसे स्‍वीकार नहीं किया जा सकता है.

14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में एक आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी, जिसके बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था.

पाकिस्‍तान को चेतावनी

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार अमेरिका ने पाक को चेतावनी दी है. अमेरिका ने पाक से कहा कहा कि सीमा पार आतंकवाद और सीआरपीएफ पर हुआ हमला इलाके की सुरक्षा के लिए चुनौती है. हम पाकिस्तान को फिर याद दिलाते हैं कि वह UNSC में किए गए वादे को निभाए और आतंकवाद को पनाह न दे.

अमेरिका ने भारत और पाकिस्तान को सीमा पार सैन्य गतिविधि को रोकने और स्थिरता की वापसी के कहा है. अमेरिका ने दोनों देशों से हालात को सामान्य करने के लिए कदम उठाने को कहा है. आगे की सैन्य गतिविधि स्थिति को और खराब कर देगी.

तनाव कम करने की अपील

व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) के एक अधिकारी ने कहा कि अमेरिका भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव को लेकर चिंतित है और उसने दोनों पक्षों से तनाव कम करने के लिए तत्काल कदम उठाने का आह्वान किया है.

नाम सार्वजनिक नहीं करने की शर्त पर एनएससी के अधिकारी ने बताया, “आगे से किसी भी ओर से सैन्य कार्रवाई होने से दोनों देशों, उनके पडो़सियों और विश्व समुदाय के लिये जोखिम की आशंका अस्वीकार्य रूप से बहुत ज्यादा है.”

अधिकारी पाकिस्तान के उस दावे पर एक सवाल का जवाब दे रहे थे जिसमें पाकिस्तान ने कहा था कि उसने अपने हवाई क्षेत्र में दो भारतीय लड़ाकू विमानों को मार गिराया और एक पायलट को गिरफ्तार कर लिया.

अधिकारी ने कहा, “अमेरिका के अधिकारियों ने पुलवामा हमले के बाद भारत के साथ मजबूत एकजुटता दिखाई है.” अधिकारी ने दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच सीधे संवाद पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.