Take a fresh look at your lifestyle.

मायावती पर बीजेपी के कमेंट से बिदके अखिलेश यादव

कहा- राम-सीता और रावण' को भी पेंशन दें योगी

0

Lucknow: यूपी के एक्‍स चीफ मिनिस्‍टर अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की भाषा पर सवाल उठाये हैं. उन्होंने कहा कि जो लोग संस्कृति और समाज का डंका पीटते हैं उनकी भाषा देखिए. बीएसपी की नेता आदरणीय मायावती जी के लिए जिस स्तर की घटिया भाषा का इस्तेमाल किया, वह गलत है.

अखिलेश ने कहा कि भाजपा के पास काम का कोई ब्यौरा नहीं है. इसलिए इस तरह की भाषा का इस्तेमाल कर ध्यान हटाने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन, इस बार चुनाव में जनता उन्हें जवाब देने के लिए तैयार बैठी है.

भाजपा की भाषा पर उठाया सवाल

अखिलेश यादव ने कहा कि मायावती जी के लिए जो लोग अपशब्द कह रहे हैं. वो फ्रस्टेट हो गये हैं. उनकी आंखों के सामने अंधेरा छाया है. अपने काम ना बता कर दूसरी तरफ चुनाव ले जाना चाहते हैं. अभी इनकी भाषा और गिरेगी. सबसे बड़ी कुर्सी पर बैठे लोगों की भाषा भी ऐसी ही है. उन्होंने कहा कि नया भारत बनाने का काम ये नौजवान करेंगे जो सपना देखते हैं, संघर्ष करते हैं. सबसे शानदार युवाओं का संगठन समाजवादी पार्टी में है.

‘ठोको नीति से नहीं आता इंवेस्टमेंट’

अखिलेश यादव ने कहा, सुना है कि भारत का डंका दुनिया मे बज रहा है. बीजेपी ने इतनी बड़ी इन्वेस्टर्स मीट कराई. कोई फायदा नहीं हुआ. इस मीट पर भी मंच पर वही लोग बैठे नजर आये, जो हर जगह ऐसे मंच पर नजर आते हैं. इंवेस्टर्स मीट हुई पर इंवेस्टमेंट नहीं हुआ.

file

उन्होंने योगी के ठोको नीति के बयान पर तंज कसते हुए कहा कि योगी की ठोको नीति यहां नहीं चली. उन्होंने कहा कि भुखमरी के आंकड़े देखिए भारत की गिनती उसमें हैं. सबसे ज्यादा बेरोजगार, स्वास्थ्य की बुरी हालत पर भारत आगे है.

‘सबसे ज्यादा झूठी पार्टी बीजेपी’

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि आज तक राजनीति में किसी ने इतना झूठ नहीं बोला जितना बीजेपी बोलती है. उनकी राजनीतिक भाषा और व्यवहार कैसा है जनता ने साढ़े चार साल में देख लिया है. हमें पता है कि जनता, किसान और व्यापारी तैयार है, जिन्हें बीजेपी ने धोखा दिया है.

मुझे उम्मीद है कि प्रवासी कुछ इन्वेस्ट करेंगे, कुम्भ देखकर मन बदलेगा. उन्हें भरोसा दिलाना होगा. ठोको नीति से उनका भरोसा नहीं जीता जा सकेगा. जहां तक गठबंधन के नेता का सवाल है, नेतृत्व जनता अपने आप तय कर लेती है. नया पीएम होगा ये तय है.

 साधु-सन्तों , ‘राम-सीता और रावण’ को भी पेंशन दें योगी’

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर तंज कसा है. अखिलेश ने कहा है कि योगी सरकार साधु-संतों को भी पेंशन दे. उन्होंने कहा कि हमने तो रामलीला के पात्रों को पेंशन देने की स्कीम शुरू की थी. सीएम योगी भी राम और सीता को पेंशन दें और राम-सीता से बचे तो रावण को भी पेंशन दें.

अखिलेश ने इस दौरान कहा, ‘साधु-संतों को कम से कम 20 हजार महीने पेंशन मिले और यश भारती और समाजवादी पेंशन भी शुरू हो जाए. रामायण पाठ और रामलीला वालों को भी पेंशन मिले.’

‘अकबर का किला दान दे केंद्र’

अखिलेश ने कहा कि कुंभ दान का पर्व माना जाता है. केंद्र सरकार को चाहिए कि वह प्रयागराज का अकबर किला यूपी सरकार को दान दे, ताकि सरस्वती कुंभ लोगों के लिए हमेशा के लिए खुल जाये. सेना को जगह चाहिए तो उसे चंबल में खाली पड़ी जगह पर भेज दें. एसपी अध्यक्ष ने कानपुर के उद्योग का जिक्र करते हुए कहा कि टेनरियों के बन्द होने से कारोबार और रोजगार पर असर पड़ा है. कानपुर की पहचान चमड़े के काम से भी है उसे खत्म नहीं किया जा सकता.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More