Take a fresh look at your lifestyle.

आजसू ने की पूरे झारखंड में चुनाव लड़ने की तैयारी, केंद्रीय समिति की बैठक में तैयार हुआ खाका

0

Ranchi: आजसू पार्टी पूरे झारखंड में चुनाव लड़ने की तैयारी करने जा रही है. झारखंड के सभी विधानसभा क्षेत्रों में लोगों के बीच पहुंचने के लिए पार्टी के केंद्रीय समिति की बैठक में खाका तैयार कर लिया गया है. केंद्रीय समिति की बैठक सुदेश कुमार महतो की अध्यक्षता में हुई.

बड़ी बातें

  • आजसू पार्टी के केंद्रीय समिति की बैठक में तय हुआ मास्‍टर प्‍लान
  • 2 अक्टूबर को सभी विधानसभा क्षेत्र में ‘स्वराज स्वाभिमान जनादेश यात्रा’
  • ‘विधानसभा स्तरीय चुल्हा प्रमुख सम्मेलन’ 11 अक्टूबर से
  • अक्टूबर के तीसरे सप्ताह में ‘सामाजिक न्याय संकल्प रैली’

सुदेश कुमार महतो ने कहा कि सभी विधानसभा में बनाए गए चुल्हा प्रमुख परिवार की आवश्यकता एवं सरकार के कल्याणकारी योजनाओं, कार्यक्रमों के साथ हर परिवार को जोडें. चुल्हा प्रमुख यह सुनिश्चित करें कि हर चुल्हे का दीया जले. 

उन्होंने कहा कि पार्टी राज्य के आदिवासियों एवं मूलवासियों के अधिकार को लेकर सड़क से लेकर सदन तक मुखर रही है. ‘जन की बात’, जन परिचय सभा, जनसंवाद, पिछड़ा प्रतिनिधि सम्मेलन, स्वराज्य स्वाभिमान यात्रा कार्यक्रम चलाकर जनता के मुद्दों, मसलों को नजदीक से जानने का प्रयास हुआ है. आज सामाजिक न्याय की लड़ाई को राजनीतिक ताकत की जरूरत है.

जिसकी जितनी आबादी उसकी उतनी भागीदारी. पार्टी का यह सिर्फ नारा नहीं है. बल्कि विचारधारा है. अलग राज्य के संघर्ष के आकांक्षाओं को मंजिल तक पहुंचाना पार्टी का लक्ष्य है. पार्टी जनता के विषयों को सुलझाने में विश्वास करती है. यही कारण है कि आज जनता की उम्मीदें पार्टी से बढ़ी हैं. अब जनादेश का समय है. 

उन्होंने कहा कि 2 अक्टूबर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती को पार्टी एक विचार एवं संघर्ष को गति देने के रूप में मनाते रही है. 2013 में विशेष राज्य की मांग को लेकर ऐतिहासिक बरही से बहरागोड़ा तक 343 किमी का मानव श्रृंखला आयोजित कर जनता ने अपने हक की बात रखने का काम किया था.

2 अक्टूबर 2018 में केंद्रीय अध्यक्ष ने स्वाराज स्वाभिमान यात्रा का शुभारंभ किया था जिसके तहत करीब 2000 गांवों में जनसंवाद कर लोगों की जनाकांक्षाएं एवं भावनाओं से अवगत हुए थे. पार्टी झारखण्ड के बहुसंख्यक आबादी के सामाजिक न्याय और उनके हक के लिए सदन से लेकर सड़क तक संघर्ष करती रही है.

लोकसभा चुनाव में पार्टी के निर्णय और उसके परिणाम ने पार्टी को राष्ट्रीय पटल पर स्थापित किया है. देश के सर्वोच्च सदन में दस्तक दिया है. अब राष्ट्रीय पटल पर अपने विचार को मुखर तरीके से रखने का अवसर मिला है.

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव के संबंध में सीटों को लेकर सहयोगी दल सामुहिक रूप से निर्णय लेंगे. सहयोगियों के साथ हमारी पार्टी का रिस्ता सम्मान और मजबूती का रहा है. स्वाभविक रूप से जिस सीट पर जिसकी पकड़ मजबूत होगी उसका उम्मीदवार होगा. 

आजसू के वरीय उपाध्यक्ष और सांसद चन्द्र प्रकाश चौधरी जी ने कहा कि राज्य में हर वर्ग के लोगों को समानुपातिक भागीदारी उसकी आबादी के अनुपात में मिले, इसके लिए आजसू पार्टी लगातार संघर्षरत है. पार्टी कार्यकर्त्ता लोगों के बीच लगातार बने रहें. पार्टी के विचारों से लोगों को जोड़ते रहें. निश्चित तौर पर पार्टी का मिशन 2019 का लक्ष्य प्राप्त होगा.

पार्टी के केन्द्रीय महासचिव और मंत्री रामचंद्र सहिस जी ने कार्यकर्ताओं को पार्टी के सबसे अहम सिपाही बताया. संविधान में सबों के लिए समानता के अवसर दिए गए हैं. आजसू पार्टी ने पहले स्वराज के लिये संघर्ष किया था, अब पिछड़ा वर्ग के लिए 27 प्रतिशत, अुनसूचित जनजाति के लिए 32 प्रतिशत और अुनसूचित जाति के लिए 14 प्रतिशत आरक्षण के लिए आवाज बुलंद करती रही है.

पार्टी कार्यकर्त्ता जनता के बीच जाकर पार्टी के संदेशों को रखे. चुनाव परिणाम पार्टी की उम्मीदों के अनुरूप होगा.

टुंडी विधायक राजकिशोर महतो, पूर्व मंत्री उमाकांत रजक, बुद्धिजीवी मंच के अध्यक्ष डोमन सिंह मुंडा, महिला मोर्चा अध्यक्ष वायलेट कच्छप और अल्पसंख्यक इकाई के प्रमुख नजरुल हसन हाशमी सहित सभी नेताओं ने भरोसा जताया कि पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व के निर्देश और धारदार तरीके से योजना को अमलीजामा पहनाने से पार्टी विधानसभा चुनाव में ऐतिहासिक जनादेश प्राप्त करेगी. 

पार्टी 2019 विधानसभा चुनाव में दहाई अंक के साथ विधानसभा में दस्तक देगी. इसकी पूरी तैयारी कर ली गई है. 

आजसू केंद्रीय समिति की बैठक में लिए गए प्रस्ताव

  • 2 अक्टूबर को सभी विधानसभा क्षेत्र में ‘स्वराज स्वाभिमान जनादेश यात्रा’ आयोजित किया जाएगा. इस कार्यक्रम के माध्यम से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एंव भगवान बिरसा मुण्डा के विचारों को जन-जन तक पहुंचाया जाएगा.  
  • विधानसभा चुनाव की तैयारी को लेकर विधानसभावार चयनित चुल्हा प्रमुख का ‘विधानसभा स्तरीय चुल्हा प्रमुख सम्मेलन’ 11 अक्टूबर से प्रारंभ किया जाएगा जो 30 अक्टूबर तक चलेगा. सभी विधानसभा क्षेत्रों में एक-एक कॉल सेंटर स्थापित किया जाएगा. जिसके द्वारा चुल्हा प्रमुख एवं चुल्हा परिवार के बीच समन्वय एवं संबंध स्थापित किया जाएगा. पार्टी परिवार के साथ सिर्फ राजनीतिक संबंध ही नहीं बल्कि पारिवारिक सुख-दुख का जीवन्त संबंध बनाना चाहती है.
  • पार्टी झारखण्ड के बहुसंख्यक आबादी के हक की बात के लिए लड़ती रही है. सामाजिक न्याय की लड़ाई को राजनीतिक ताकत की जरूरत है. जिसकी जितनी आबादी उसकी उतनी भागीदारी. पार्टी का यह सिर्फ नारा नहीं है. बल्कि विचारधारा है.
  • पार्टी पिछड़ों के लिए 27 प्रतिशत, अनुसूचित जनजाति के लिए 32 प्रतिशत तथा अनुसूचित जाति के लिए 14 प्रतिशत को लेकर वर्ष 2001 से ही मुखर रही है. इसको लेकर राज्य की राजधानी रांची में अक्टूबर के तीसरे सप्ताह में ‘सामाजिक न्याय संकल्प रैली’ अखिल झारखण्ड पिछड़ा वर्ग महासभा, अखिल झारखण्ड अनुसूचित जाति महासभा, अखिल झारखण्ड अनुसूचित जनजाति महासभा के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित करेगी. 

इससे पूर्व केन्द्रीय समिति की बैठक का एजेंडा केन्द्रीय प्रवक्ता डॉ देवशरण भगत ने पेश किया. मंच संचालन केन्द्रीय महासचिव हसन अंसारी ने किया. बैठक में पार्टी के केन्द्रीय पदाधिकारी, केन्द्रीय सदस्य, आमंत्रित सदस्य, जिला प्रभारी, जिलाध्यक्ष एवं सचिव, जिला परिषद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं सदस्य, प्रमुख एवं उपप्रमुख, महानगर अध्यक्ष एवं सचिव, साथ ही सभी अनुषंगी इकाई के अध्यक्ष एवं महासचिव भी उपस्थित थे. 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More