झारखंड सरकार के पूर्व प्रधान कानून सचिव सहित दर्जनों अधिवक्ताओं ने थामा आजसू का दामन

0
15

Ranchi: अखिल झारखंड अधिवक्ता संघ का लक्ष्य एवं मकसद बिल्कुल स्पष्ट है. आम जनमानस को उनके अधिकार, संविधान की प्रस्तावना, मौलिक अधिकार तथा संवैधानिक कर्तव्यों के बारे में जानकारी प्रदान करना तथा शोषितों, वंचितों, पिछड़ों और समाज के अंतिम छोर पर खड़े लोगों को न्यायिक प्रक्रियाओं से अवगत कराना तथा न्याय दिलाना. राज्य के विकास एवं सामाजिक बेहतरी के लिए अधिवक्ताओं को आगे आकर नेतृत्व देना होगा, यही मौजूदा समय की जरुरत है.

उक्त बातें आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो ने रांची स्थित केंद्रीय कार्यालय में आयोजित मिलन समारोह में उपस्थित अधिवक्ताओं, पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही.

मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय मुख्य प्रवक्ता डॉ. देवशरण भगत ने सभी अधिवक्ताओं से आग्रह करते हुए कहा कि आत्मसंतुष्टि के लिए कार्य करें, शोषितों-पीड़ितों और आर्थिक रुप से अक्षम लोगों को न्यायिक विषयों एवं न्यायिक प्रक्रिया में मदद करें। कहा कि जबतक जिम्मेदार लोग आगे आकर नेतृत्व नहीं करेंगे तबतक राज्य का कायाकल्प संभव नहीं है.

मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय उपाध्यक्ष हसन अंसारी ने कहा कि आज भी ग्रामीणों में कानूनी विषयों की जानकारी बहुत कम है. जागरुकता की कमी के कारण सरकारी अधिकारी एवं कर्मचारी छोटे-छोटे कार्यों के लिए भी आम जनता को कोर्ट, कचहरी एवं कार्यालयों का चक्कर लगवाते रहते हैं. ऐसी परिस्थितियों में अखिल झारखण्ड अधिवक्ता संघ की जिम्मेदारियां और बड़ी हो जाती हैं.

ग्रामीणों को न्याय दिलाने के लिए अधिवक्ताओं को बड़ी एवं महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी. सभी अधिवक्ता आम जनता को न्यायिक प्रणाली एवं विषयों को लेकर तार्किक, बौद्धिक एवं वैचारिक मदद करें. तथा गरीब और आमजन को सुलभता से न्याय दिलाने तथा उनके कल्याण के लिए कार्य करते रहें. वर्तमान राजनीतिक परिपेक्ष्य तथा झारखंड के नवनिर्माण में अधिवक्ताओं एवं बुद्धिजीवियों की भूमिका एवं जिम्मेदारियां व्यापक हैं.

आजसू पार्टी की सदस्यता ग्रहण करते हुए विधि विभाग, झारखंड सरकार के पूर्व प्रधान कानून सचिव एवं पूर्व न्यायाधीश श्री पंकज श्रीवास्तव ने कहा कि जिस प्रकार आजसू पार्टी बिना भय, पक्षपात, राग या द्वेष के सकारात्मक राजनीति करती आई है, ठीक उसी प्रकार अखिल झारखंड अधिवक्ता संघ के पदाधिकारी अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें। राज्य में कानून का शासन स्थापित हो तथा न्यायिक स्वतंत्रता बरकरार रहे, इसे लेकर हमें व्यापक रोडमैप के साथ कार्य करना है.

मिलन समारोह को संबोधित करते हुए अखिल झारखंड अधिवक्ता संघ के प्रदेश अध्यक्ष राधेश्याम गोस्वामी ने कहा कि कानूनी रुप से परिपक्व एवं सक्षम नेताओं को समाज की जरुरत है, यही मौजूदा समय की भी मांग है. दूरगामी सोच के साथ इस दिशा में निरंतर कार्य किया जा रहा. इसी क्रम में अधिवक्ता संघ के गठन, पुनर्गठन एवं विस्तार का कार्य निरंतर जारी है.

मिलन समारोह के दौरान अखिल झारखंड अधिवक्ता संघ के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष राधेश्याम गोस्वामी, प्रधान महासचिव भरत चंद्र महतो सहित सभी प्रदेश पदाधिकारियों को भी सम्मानित किया गया.

इन्होंने ली आजसू की सदस्यता : पूर्व प्रधान कानून सचिव एवं न्यायाधीश पंकज श्रीवास्तव, झारखंड उच्च न्यायालय के अधिवक्ता अमरेश कुमार, आशीष गौतम, राजेश कुमार पासवान तथा रंजीत महतो, उमेश चंद्र दास एवं प्रदीप कुमार.

मिलन समारोह में मुख्य रूप से आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, मुख्य प्रवक्ता डॉ. देवशरण भगत, केंद्रीय उपाध्यक्ष हसन अंसारी, केंद्रीय प्रवक्ता मनोज सिंह, अखिल झारखंड अधिवक्ता संघ के प्रदेश अध्यक्ष राधेश्याम गोस्वामी, अखिल झारखंड अधिवक्ता संघ के प्रधान महासचिव भरत चंद्र महतो, उपाध्यक्ष दिनेश चौधरी, जेपी झा, महासचिव गोपेश्वर सिंह, सचिव संजीत कुमार, रमेश कुमार सिंह, सर्वेश्वरी कुमारी, अखिल झारखंड अधिवक्ता संघ के रांची जिलाध्यक्ष अंजीत कुमार, केंद्रीय कार्यालय मीडिया प्रभारी परवाज़ खान सहित अन्य मौजूद रहें.

Leave a Reply