Take a fresh look at your lifestyle.

लड़कियों के नेतृत्व वाली पहल ने बेहतर स्वास्थ्य और समग्र कल्याीण के लिए 10 साहसिक सिफारिशें कीं

0 24

झारखंड में सामूहिक प्रयास के लिए ष्अब मेरी बारीष् की बालिका समर्थकों ने अग्रिम पंक्तिा के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओंए सामुदायिक नेताओंए सरकारए गैर सरकारी संगठनों और अन्य किशोरों के साथ बातचीत किया

गुमलाए 21 सितंबरए 2019रू आज लगभग 50 बालिकाओं ने सरकारी प्रतिनिधियोंए अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओंए सामुदायिक नेताओंए गैर.सरकारी संगठनों और अन्य किशोरों को दस साहसिक सिफारिशों का एक चार्टर दिया। बालिका समर्थकों ने महत्वपूर्ण कमियों को सामने रखा और किशोर उम्र में गर्भधारणए बीच में बाधित शिक्षाए शीघ्र विवाह और घरेलू हिंसा और यौन शोषण के मामले में गंभीर जोखिम की रोकथाम के उद्देश्यी से यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य अधिकार ;एसआरएचआरद्धए शिक्षाए सुरक्षा और पोषण तक बेहतर पहुंच की मांग की।
बालिका समर्थकों द्वारा तैयार की गई 10 सिफारिशों का चार्टर निम्नालिखित हैरू

  1. प्रत्येक ब्लॉक में हमारे लिए किशोर हितैषी हेल्था क्लीनिक उपलब्ध कराएंए जहां दी जा रही सेवाओं के बारे में स्पष्ट जानकारी भी हो।
  2. किशोर हितैषी हेल्थल क्लीनिक में उपलब्ध गर्भनिरोधक विधियोंए परामर्श सेवाओं और अन्य दवाओं को समझने मंम हमारी मदद करें।
  3. सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के माध्य म से आरटीआईए एसटीआईए एड्स जैसे गैर.संचारी और संचारी रोगों के बारे में हमें जानकारी दें।
  4. हमारे स्कूलों में नामांकित छात्रों की संख्या के लिए शिक्षकों की संख्या बढ़ाने की आवश्यकता है।
  5. सरकारी स्कूलों में कम से कम 8वीं कक्षा तक एक्स्ट्रा करिकुलर गतिविधियों के साथए समय पर अध्ययन सामग्री वितरित करें।
  6. सरकारी स्कूलों में लड़कों और लड़कियों के लिए स्वच्छ और सुरक्षित प्रसाधन सुविधाएं मिलनी चाहिए।
  7. सुनिश्चित करें कि हमारे आंगनवाड़ी केंद्रों में हमेशा सैनिटरी पैड उपलब्ध हों।
  8. बाल विवाह को रोकने के लिएए सभी संस्थानों मेंए हमारे साथ खुली बातचीत करें।
  9. हमारी सुरक्षा के लिए पोक्सोड और जेजे एक्टे के बारे में हमें जानकारी दें।
  10. ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समिति ;वीएलसीपीसीद्ध को बनाने में हमें कोई भूमिका दें।

बालिका समर्थकों की सिफारिशें निर्णायक समय पर आयी हैंए क्योंकि सरकार के प्रतिनिधि झारखंड में किशोर गर्भधारण और बाल विवाह की उच्च दर को चिंता का विषय मान रहे हैं। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण ;एनएफएचएसद्ध के आंकड़ों से पता चलता है कि झारखंड में 17ण्8ः किशोर लड़कियों की शादी कानूनी उम्र से पहले हो जाती हैए जो राष्ट्रीय औसत 11ण्9ः से अधिक है। 18 वर्ष से पहले शादी करने वाली युवा माताओं और लड़कियों को हिंसाए अभावए कुपोषण और प्रसव संबंधी मृत्यु का उच्च जोखिम है। युवा माताओं से पैदा हुए बच्चों में भी जीवित रहने की संभावना कम होती है।
सेंटर फॉर कैटेलाइजिंग चेंज के स्टेट हेड संजय पॉल ने कहा कि श् ष्अब मेरी बारीष् अभियान के अंतर्गत सोशल ऑडिटए पत्र लेखन और सामुदायिक बैठकों के माध्यम सेए झारखंड के कई किशोरों के पास अपनी सिफारिशों और दैनिक चुनौतियों को प्रभावी ढंग से सुनाने के लिए एक मंच है। किशोरों को समग्र विकास के अवसर प्रदान करने के लिए जिलाए समुदाय और स्कूल के स्तर पर मौजूद गतिरोध को तोड़ना हमारे लिए महत्वपूर्ण है।श्
गुमला की गर्ल चैंपियन प्रियंका कुमारी सिंह ने कहाए ष्अब मेरी बरी अभियान के माध्यम से हमने किशोरों के किशोर स्वास्थ्य केंद्र ;एएफएचसीद्ध और युवा मैत्री केंद्र ;वाईएमकेद्ध के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त की। मेरे किशोर किशोरी समुँह को यह जानकर खुशी हुई कि हम प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों में एक विशेष सुविधा है जहा हम अपने समस्याओ के बारे में खुलकर चर्चा कर सकते हैं और समाधानों का उपयोग कर सकते है। सरकार से मेरा विनम्र अनुरोध है कि सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं वह को सप्ताह के छह दिनों के लिए उपलब्ध कराया जाए जो अब २ दिन उपलब्ध है। उन्हें किशोरों को मार्गदर्शन देने के लिए उचित प्रशिक्षण और जानकारी दी जानी चाहिए। ष्
जिला परिषद् अध्यक्ष किरण माला बेडा ने कहाएष् मेरी बारी अभियान के वजह से में गर्ल चैंपियंस में बहुत उत्साह देख रही हूँद्य हमें बाल विवाह की प्रथा को समाप्त करने के लिए इस तरह के आंदोलनों को शुरू करना चाहिए। मुझे विश्वास है कि आप इन आंदोलनों के माध्यम से बाल विवाह को रोकेंगे। बाल विवाह के साथए हमारे पास है बाल तस्करी को भी रोकें। मैं गर्ल चैंपियंस से आग्रह करती हूं कि वे अपने समुदायों में बदलाव के एजेंट बने रहें और स्वतंत्र बनें।ष्

ब्योमकेश लालए सीनियर प्रोग्राम अफसरए सी ३ संस्था ने कहाए ष्झारखंड में आंदोलनों का नेतृत्व करने वाली महिलाओं की एक परंपरा है। गर्ल चैंपियन सरकार को लिए अपनी मांगों व्यक्त करने वाली महिला नेतृत्व का महान उदाहरण हैं।

बालिका समर्थकों ने चार्टर को एक बस यात्रा के हिस्से के रूप में प्रस्तुत कियाए जो झारखंडए उत्तर प्रदेश और राजस्थान में सात जिलों में जा रही है। इस बस यात्रा की मेजबानी ष्अब मेरी बारीष् अभियान कर रहा हैए जो मार्च 2019 में शुरू हुआ हैए जिसका उद्देश्यल देशव्यापी स्तर पर किशोरों की प्राथमिकताओं के बारे में जागरूकता पैदा करना है।
बस यात्रा का पहला पड़ाव गुमला हैए जहां बालिका समर्थकों ने स्थानीय सरकार के प्रतिनिधि और 100 से अधिक सामुदायिक नेताओंए किशोरों और गैर.सरकारी संगठनों के साथ बातचीत की। यहां से बस उत्तर प्रदेश के लिए रवाना होने से पहले झारखंड के अंतिम पड़ावए सिमडेगा और फिर रांची जाएगी।
चार्टर में दी गईं सिफारिशें झारखंड के सिमडेगाए सरायकेलाए दुमकाए गुमलाए देवघर और लोहरदगा जिले के 63 गांवों में की गई किशोर केंद्रित योजनाओं और सेवाओं के सोशल ऑडिट और रिसोर्स मैपिंग पर आधारित हैंए जिसमें राष्ट्री य किशोर स्वािस्य्ंद कार्यक्रम ;आरकेएसकेद्धए माहवारी स्वच्छता योजना ;एमएचएसद्ध और सर्व शिक्षा अभियान ;एसएसएद्ध जैसी योजनाएं शामिल हैं। वर्ष 2019 के अगस्त और सितंबर में कुल 63 सोशल ऑडिट एकत्र किए गए और उनका मिलान किया गया। लड़कियों द्वारा प्रस्तुत किए गए डेटा और सिफारिशें एक छोटे सैम्पंल साइज पर आधारित हैं और यह बालिका समर्थकों और सामुदायिक हितधारकों की धारणाओं पर केन्द्रि त हैं।
किसी भी अन्य जानकारी के लिएए कृपया ब्यो मकेश लालए इासंसस/ब3पदकपंण्वतह को लिखें।
ष्अब मेरी बारीष् के बारे में
ष्अब मेरी बारीष् अभियान मार्च 2019 में शुरू किया गया था। यह अभियान किशोरों को उनके यौन और प्रजनन स्वास्थ्यए सुरक्षाए शिक्षाए पोषण जैसे कारकों के मुद्दों को सामने लाने और बातचीत चलाने का प्रयास है जो उनके समग्र विकास और सेहत में योगदान करते हैं। किशोरों की प्राथमिकताओं के बारे में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से ष्अब मेरी बारीष् अभियान को एक राष्ट्रव्यापी अभियान बनाने के लिए तैयार किया गया है।
अभियान के पहले चरण मेंए गतिविधियों को झारखंड और राजस्थान में केंद्रित किया गया। अभियान की गतिविधियों को 60 से अधिक बालिका समर्थकों और गैर.सरकारी संगठनों द्वारा क्रियान्वित किया जा रहा है जिसमें क्वेस्ट एलायंसए सेंटर फॉर कैटेलाइजिंग चेंजए चाइल्ड इन नीड इंस्टीट्यूटए मैजिक बसए अरावलीए दासरा पूरे झारखंड और राजस्थान में शामिल हैं। इन लड़कियों को उनके संबंधित गांवों में सरकारी सेवाओं का आकलन करनेए अपने साथियोंए समुदायों और सेवा प्रदाताओं के साथ जुड़नेए सोशल ऑडिट करनेए सिफारिशें तैयार करने और अपने स्थानीय प्रशासन के साथ काम करने के लिए प्रशिक्षित किया गया है।
अगले चरण मेंए 60 से अधिक बालिका समर्थक 300 बालिका समर्थकों को एक समान स्किनल सेट पर प्रशिक्षित करेंगे। ये 300 बालिका समर्थक किशोर.केंद्रित सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों की बेहतर डिलीवरी के लिए आकलन करनाए विश्लेषण करनाए साझा करना और सहयोग करना जारी रखेंगे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.