अरुणाचल प्रदेश में उग्रवादियों का बड़ा हमला, एनपीपी विधायक समेत 11 की मौत, तीन घायल

by

Itanagar: अरुणाचल प्रदेश के तिरप जिले के बोगापानी इलाके में मंगलवार की सुबह संदिग्ध नगा उग्रवादी संगठन एनएससीएन (खापलांग) गुट द्वारा घात लगाकर बड़ा हमला किया.

इसमें मेघालय की सत्ताधारी पार्टी नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के वेस्ट खोंसा विधानसभा क्षेत्र के उम्मीदवार व मौजूदा विधायक तिरोन आबोह, व उनके बेटे समेत 11 लोगों की मौत हो गयी. हमले में तीन व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हैं.

असम से घर लौट रहे थे विधायक

घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस की टीम पहुंचकर राहत व बचाव कार्य में जुट गई है. विधायक असम से अपने घर खोंसा की ओर लौट रहे थे. उनके साथ उनके परिवार के लोगों के साथ काफिले में कुल 14 लोग शामिल थे.

Read Also  झारखंड में 22 से 29 अप्रैल तक संपूर्ण लॉकडाउन, जानिए क्‍या है गाइडलाइन

अरुणाचल प्रदेश के पुलिस महानिदेशक एस बीके सिंह ने बताया है यह घटना दिन के एक बजे से डेढ़ बजे के बीच हुई है. उन्होंने बताया है कि घटना के समय कुल चार सुरक्षाकर्मी साथ में थे, जिसमें दो शहीद हो गए जबकि एक घायल है तथा एक सकुशल है.

आधुनिक हथियारों से लैस थे हमलावर

यह घटना तिरप जिले के बोगापानी स्थित अजय राजकुमार चाय बागान के पास सुनसान जंगली इलाके में हुई. अत्याधुनिक हथियारों से लैस संदिग्ध एनएससीएन (खपलांग) गुट के उग्रवादियों ने घात लगाकर अंधाधुंध फायरिंग करते हुए विधायक व उनके पुत्र समेत कुल 11 लोगों की निर्मम तरीके से हत्या कर दी.

तिरोन आबोह वेस्ट खोंसा विधानसभा क्षेत्र से एनपीपी के उम्मीदवार थे. पिछली बार 2014 में वे इसी विधानसभा सीट से विधायक चुने गए थे.

Read Also  झारखंड में 22 से 29 अप्रैल तक संपूर्ण लॉकडाउन, जानिए क्‍या है गाइडलाइन

इस घटना में गंभीर रूप से घायल विधायक के एक बॉडीगार्ड और दो उनके समर्थकों का इलाज खोंसा स्थित सरकारी अस्पताल में चल रहा है. तीनों को उन्नत चिकित्सा के लिए असम के डिब्रूगढ़ मेडिकल कालेज भेजने की तैयारी की जा रही है.

हादसे पर प्रतिक्रिया

भाजपा नेता व केंद्रीय गृहराज्य मंत्री किरण रिजीजू व मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड संगमा ने ट्वीट के जरिए इस जघन्य हत्याकांड की कड़े शब्दों में निंदा की है. वहीं अरुणाचल प्रदेश एनपीपी के प्रदेश प्रवक्ता मुचु मिथी ने भी घटना की निंदा करते हुए इस घटना को राजनीतिक हत्या करार दिया है.

हालांकि सूत्रों का कहना है कि पड़ोसी देश म्यांमार में पूर्वोत्तर के उग्रवादियों के विरूद्ध म्यांमार सेना द्वारा चलाए जा रहे सैन्य अभियान के विरोध में उग्रवादी संगठन एनएससीएन (खापलांग) ने इस घटना को अंजाम दिया है.

Read Also  झारखंड में 22 से 29 अप्रैल तक संपूर्ण लॉकडाउन, जानिए क्‍या है गाइडलाइन

इस इलाके में एनएससीएन (खापलांग) का अच्छा प्रभाव माना जाता है. पुलिस प्रशासन इलाके को घेरकर जोरदार तलाशी अभियान आरंभ किया है. इस घटना से इलाके में शोक की लहर दौड़ गई है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.