Take a fresh look at your lifestyle.

उत्‍तर प्रदेश में बारिश के कहर से अब तक 49 लोगों की मौत

0

Lucknow: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में बीते चार दिनों से हो रही बारिश (Rain) अब लोगों के लिए जानलेवा हो चली है. बारिश के कहर से अब तक 49 से ज्यादा मौतें हो चुकी है. 24 से ज्यादा लोग घायल हैं. 

राहत आयुक्त जीएस परदर्शी ने बताया कि मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक आने वाले 48 घंटे में प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश होने की चेतावनी (Weather Alert) दी गई है. इसके मद्देनजर एनडीआरएफ (NDRF) व स्थानीय जिला व पुलिस प्रशासन को अलर्ट कर दिया गया है.

सितम्बर माह के अंतिम सप्ताह में जिस तरह से बारिश हुई है, उसने लोगों को जीना दूभर कर दिया है. बारिश का पानी जहां सड़कों के रास्तों से घरों में घुस रहा है वहीं आकाशीय बिजली, जर्जर मकान, पेड़ व बिजली की खम्भे गिर रहे हैं. इससे पूरा जनजीवन बेहाल है. 

मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक बारिश के कहर से शनिवार को अम्बेडकर नगर में प्रतापपुर रुपई पट्टी गांव में कच्चा मकान गिर गया. मलबे में दबकर 25 वर्षीय दिव्यांग दीपक मौके पर ही मौत हो गई थी.

कच्ची दीवार के नीचे दबकर श्यामलाल (53) और उनकी पुत्री सुशीला (15) की मौत हो यी. परिवार के ही अनंतराम, छोटई उसकी पत्नी व दो साल का बेटा घायल है. 

इसी तरह सुलतानपुर के सैतापुर सराय गांव में कच्ची दिवार गिरने से मिट्ठू की डेढ़ साल की बेटी आस्था की मौत हो गई, जबकि उसका बेटा सचिन गंभीर रुप से घायल हो गया. इसी तरह मऊ जनपद के घोसी कोतवाली क्षेत्र हासापुर किरकिट गांव कच्चा मकान गिरा, जिसके मलबे के नीचे दबकर मासूम की मौत हो गई जबकि छह लोग घायल हैं. 

राहत आयुक्त जीएस परदर्शी ने शुक्रवार की देर रात सूची जारी कर बताया था कि बारिश के कहर से अब तक अलग-अलग जिलों में 44 लोगों की जान जा चुकी है. 12 से अधिक घायल है.

17 पशु हानि और 161 कच्चे, पक्के व झोपड़िया गिरी हैं, जिससे लोगों को काफी नुकसान हुआ है.

सबसे अधिक मौतें प्रयागराज में 14, पूर्वांचल में 13 बुंदेलखण्ड में सात और सहारनपुर, कानपुर में एक-एक की जान गई है. उन्होंने बताया कि बारिश में अभी तक कितनी और मौतें हुई है इसका आकलन कर शनिवार शाम तक रिपोर्ट दी जायेगी. 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More