Take a fresh look at your lifestyle.

ऑनलाइन जॉब सर्च करने वाले 2.9 करोड़ बेरोजगारों पर साइबर क्राइम का खतरा

73वें स्‍वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं
पं रामदेव पांडेय, सनातन धार्मिक अनुष्‍ठान व ज्‍योतिषीय परामर्श
0 31
स्‍वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं
प्रतिमा कुमारी, राष्‍ट्रीय महासचिव, लोजपा

New Delhi: अगर आप इंटरनेट के जरिए जॉब सर्च करते हैं तो यह खबर आपके लिए है. अब इंटरनेट पर नौकरी ढूंढना आपके लिए खतरनाक हो सकता है. आप साइबर क्राइम के शिकार हो सकते हैं. शनिवार को एक ऑनलाइन इंटेलिजेंस फर्म ने एक बड़े साइबर क्राइम का खुलासा किया, जिसमें 2.9 करोड़ भारतीयों के व्यक्तिगत डेटा को फ्री में डार्क वेब पर लीक कर दिया गया है. जहां से इसे कोई भी ऐक्सेस या डाउनलोड कर सकता है.

ऐड्रेस, ईमल, फोन जैसी डिटेल लीक

cyble नाम की फर्म ने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा- ‘नौकरी ढूंढने वाले 2.9 करोड़ भारतीयों का व्यक्तिगत डेटा फ्री में डीपवेब में लीक हो गया. हम आमतौर पर इस तरह के लीक हमेशा देखते हैं, लेकिन इस बार, मैसेज हेडर ने हमारा ध्यान अपनी तरफ खींचा क्योंकि यहां बहुत सारा पर्सनल डेटा मौजूद है जहां शिक्षा और पता जैसी महत्वपूर्ण जानकारियां भी शामिल हैं.’

इस फर्म ने हाल ही में फेसबुक और सिकोइया द्वारा वित्त पोषित भारतीय शिक्षा प्रौद्योगिकी फर्म Unacademy की हैकिंग के बारे में खुलासा किया था. इस ब्रीच में संवेदनशील जानकारी जैसे ईमेल, फोन नंबर, घर का पता, शैक्षिक योग्यता, कार्य का अनुभव आदि शामिल हैं.

लोगों के नाम पर हो सकता है घोटाला

ब्लॉग पोस्ट ने 2.3 जीबी बड़ी एक फाइल का स्क्रीनशॉट शेयर किया है जिसे एक हैकिंग फोरम पर पोस्ट किया गया था. ब्लॉग में आगे कहा गया है- ‘ऐसा लगता है कि ये दानकारी रिज्यूम एग्रीगेटर से निकली है, जिसमें ढेर सारी विस्तृत जानकारी है. नई जानकारी मिलने पर हम इस लेख को अपडेट करेंगे.’

cyble द्वारा पोस्ट किए गए स्क्रीनशॉट पर भारत की कुछ प्रमुख जॉब वेबसाइट्स के नाम के फोल्डर्स भी दिखाई दिए, लेकिन कंपनी स्वतंत्र रूप से लीक के स्रोत की जांच कर रही है. साइबर अपराधी इन निजी जानकारियों का इस्तेमाल विभिन्न आपराधिक गतिविधियों में करते हैं जैसे- चोरी, घोटाले, और कॉर्पोरेट जासूसी.

क्या है डार्क वेब?

डार्क वेब इंटरनेट का ही हिस्सा है, लेकिन इसे सामान्य रूप से सर्च इंजन पर नहीं ढूंढा जा सकता. इस तरह की साइट को खोलने के लिए विशेष तरह के ब्राउजर की जरूरत होती है, जिसे टोर कहते हैं.

73वें स्‍वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं
प्रेम शाही मुंडा, केंद्रीय अध्‍यक्ष, आदिवासी जन परिषद

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.