Take a fresh look at your lifestyle.

दिल्‍ली में ठंड का 118 साल का रिकार्ड टूटा, पारा 2.4 डिग्री

0 22

Delhi: दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में भीषण ठंड का दौर जारी है. शुक्रवार के बाद शनिवार को भी न्यूनतम पारा और गिरा है. ठंड ने 118 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है.

दिल्ली में जहां न्यूनतम तापमान 2.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है तो वहीं रेवाड़ी का न्यूनतम तापमान 1 डिग्री सेल्सिय है. इस लिहाज से शनिवार इस मौसम का सबसे सर्द दिन है. रेवाड़ी में शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 3 डिग्री सेल्सियस था.

मिली जानकारी के मुताबिक, शनिवार को दिल्ली के साथ एनसीआर के कुछ इलाकों में भी न्यनूतम तापमान 3 डिग्री सेल्सियस से नीचे दर्ज किया गया है.

प्रादेशिक मौसम विज्ञान केंद्र दिल्ली के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव के अनुसार, उत्तर-पश्चिमी हवा के कारण अभी ठिठुरन भरी ठंड जारी रहेगी. 31 दिसंबर से तापमान में कुछ सुधार हो सकता है.

पहाड़ों पर बर्फबारी ने बढ़ाई दिल्ली-एनसीआर में ठंड

पहाड़ों पर बर्फबारी व शीतलहर के कारण मैदानी इलाकों में ठिठुरन बढ़ती जा रही है. रिकॉर्ड तोड़ ठंड के बीच शुक्रवार को दिल्लीवासियों ने इस मौसम की सबसे सर्द सुबह में आंखें खोलीं. न्यूनतम तापमान 4.2 व अधिकतम 14.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

आया नगर में तो न्यूनतम तापमान लुढ़ककर 3.6 डिग्री पर पहुंच गया. दिन में खिली हल्की धूप भी लोगों को ठंड से राहत नहीं दिला सकी. गत वर्ष 29 दिसंबर को न्यूनतम तापमान 2.6 डिग्री पर पहुंचा था.

नर्सरी से कक्षा पांच तक की छुट्टियां 15 जनवरी तक

सरकारी स्कूलों में शनिवार से शीतकालीन अवकाश शुरू हो गया. शिक्षा निदेशालय के आदेशानुसार नर्सरी से कक्षा पांच तक की छुट्टियां 15 जनवरी तक रहेंगी. वहीं कक्षा छह से 12 तक की छुट्टियां एक जनवरी से शुरु होंगी और 15 जनवरी तक जारी रहेंगी.

सभी सरकारी स्कूलों के लिए शैक्षणिक सत्र 2019-20 का शीतकालीन अवकाश में कटौती इसलिए की जा रही है. ताकि छात्रों की पढ़ाई पर किसी तरह का असर न पड़े.

निदेशालय के अनुसार बीते माह दीपावली के बाद राज्य में हवा की गुणवत्ता इमरजेंसी के लेवल तक खराब हो गई थी. इसके चलते राज्य के स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया गया था. इससे पहले जुलाई में भीषण गर्मी के चलते भी स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया था.

वहीं, कक्षा 9, 10 व 12 के छात्रों को 2 से 14 जनवरी तक उपचारात्मक (रेमेडियल) कक्षाओं के लिए आना होगा. यह कक्षाएं छात्रों के अकादमिक प्रदर्शन को बढ़ाने के लिए लगेंगी. इसमें

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.