अब आसानी से स्‍कूल नहीं बदल सकेंगे 10वीं और 12वीं के स्‍टूडेंट्स, सीबीएसई के नियम सख्‍त

by

Ranchi: सीबीएसई बोर्ड के नए नियम के अनुसार अब स्‍टूडेंट्स को स्‍कूल बदलना महंगा पड़ेगा. नए सेशन से लागू होने वाले इस नियम के तहत 10वीं और 12वीं में किसी भी वजह से अपना स्‍कूल बदलने पर 1000 रुपये से लेकर 5000 रुपये तक पेमेंट करना पड़ेगा.

कई बार 10वीं और 12वीं के स्‍टूडेंट्स रजिस्‍ट्रेशन के बाद और बोर्ड परीक्षा फॉर्म भरने से पहले बड़े स्‍तर पर स्‍कूलों से ट्रांसफर लेते हैं. इसके पीछे कई तरह के साठगांठ के होने का अंदेशा और इसे रोकने के मकसद से सीबीएसई बोर्ड ने 10वीं और 12वीं स्‍टूडेंट्स के स्‍कूल ट्रांसफर के नियम सख्‍त बना दिए हैं.

ऐसे स्‍टूडेंट्स को यह भी सलाह दी गई है कि उन्‍हें किसी वजह से स्‍कूल बदलना भी है तो 9वीं और 11वीं क्‍लास में ही बोर्ल्‍ड एग्‍जाम से पहले ऐसा निर्णय लें.

सीबीएसई ने बनाई ट्रांसफर लेने के कारणों की लिस्‍ट

अक्‍सर 10वीं और 12वीं के स्‍टूडेंट्स जो स्‍कूल बदलने के लिए अप्‍लाई करते हैं वे पैरेंट्स का ट्रांसफर होना, फैमिली शिफ्टिंग, बेहतर शिक्षा, दूरी, मेडिकल ग्राउंड, जैसे कारण बताते हैं. सीबीएसई ने ऐसे कारणों की एक लिस्‍ट बनाई है और उसे 1 से 8 कैटेगरी में डिवाइड किया है.

साथ ही ऐसी स्थिति में स्‍टूडेंट्स और स्‍कूल को किस-किस तरह की फॉर्मलिटिज से गुजरना होगा, इसके बारे में निर्देश दिए हैं.

  1. वैसे स्‍टूडेंट्स जिनके पैरेंट्स नौकरी में हैं और उनका ट्रांसफर किसी अन्‍य जगह पर हो गया है.
  2. फैमिली कहीं और शिफ्ट हो रही हो.
  3. हॉस्‍टल कहीं दूसरी जगह शिफ्ट हो गया हो.
  4. हॉस्‍टल बदलना हो.
  5. रि-एडमिशन की वजह से जिसमें स्‍टूडेंट्स फेल हो गया हो, किसी वजह से एग्‍जाम नहीं दे पाया हो, इंप्रूवमेंट करना हो, या कंपार्टमेंट लग गया हो.
  6. बेहतर शिक्षा
  7. दूरी
  8. मेडिकल ग्राउंड

पैरेंट्स का ट्रासफर हो गया हो तो लगेंगे 1000 रुपये

ऐसे कारणों का उल्‍लेख करते हुए सीबीएसई ने निर्देश दिया है कि अगर स्‍टूडेंट्स स्‍कूल बदलने का कारण पैरेंट्स नौकरी में है और उनका किसी दूसरी जगह पर ट्रांसफर होना बताता है तो ऐसे स्‍टूडेंट्स को इस प्रक्रिया के तहत 1000 रुपये की फी भरनी पड़ेगी. जबकि वैसे स्‍टूडेंट्स जो ट्रांसफर के लिए दिए गए आवेदन में सीबीएसई के लिए कारणों की सूची 2 से 8 तक के किसी भी कारण का उल्‍लेख करता है तो ऐसे स्‍टूडेंट्स को 5000 रुपये फी देनी पड़ेगी.

फीस के साथ पैरेंट्स-स्‍टूडेंट्स को देने होंगे कई डॉक्‍यूमेंट्स

10वीं और 12वीं सीबीएसई कोर्ड स्‍टूडेंट्स को स्‍कूल बदलने पर फीस के साथ सीबीएसई के दिए निर्देश के अनुसार डॉक्‍यूमेंट भी जमा करना होगा. बोर्ड के नियम के तहत अब अभिभावक के ट्रांसफर होने पर आग्रह पत्र, एनरॉलमेंट नंबर, रिपोर्ट कार्ड, प्रोविजनल ट्रांसफर सर्टिफिकेट देना होगा.

वहीं स्‍टूडेंट्स के स्‍कूल बदलने का कारण यदि जगह बदलना है, तो एसे में रेंट एग्रीमेंट लेटर के साथ आवासीय प्रमाण पत्र भी देना होगा. वहीं हॉस्‍टल बदलने के लिए आवेदन किया गया है तो स्‍टूडेंट्स को दूसरे हॉस्‍टल का पूरा डॉक्‍यूमेंट समेत अन्‍य जरूरी कागजात देने होंगे.

स्‍कूल को ऐसे स्‍टूडेंट्स के आवेदन 21 जुलाई तक रिजनल ऑफिस भेज देने होंगे. रिजनल ऑफिस इसमें किसी तरह की अधूरी जानकारी और सुधार के लिए 20 अगस्‍त तक स्‍कूल से कम्‍यूनिकेट कर सकता है. वहीं, स्‍कूल को 27 अगस्‍त तक समय होगा इसमे सुधार कराने के लिए. आखिरी में स्‍कूल ट्रांसफर पर सीबीएसई 15 से 30 सितंबर तक अप्रुवल देगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.