कोरोना वैक्‍सीन की 10 करोड़ खुराक साल 2020 के आखिर तक

New Delhi: दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, AstraZeneca की कोरोना वैक्सीन के उत्पादन में वृद्धि कर रही है. दिसंबर में 10 करोड़ खुराक तैयार होने की उम्मीद है.

SII और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ICMR) देश में मिलकर कोरोना वैक्सीन के clinical trials कर रहे हैं. जहां ICMR ने क्लिनिकल ट्रायल साइट की फीस दी है, वहीं SII कोविशिल्ड के लिए अन्य खर्चों का ध्यान रख रहा है. वर्तमान में, SII और ICMR देश भर में 15 विभिन्न केंद्रों पर वैक्सीन का II / III स्टेज के clinical trial कर रहे हैं.

पुणे स्थित फर्म SII के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला को ब्लूमबर्ग से कहा, “यदि final-stage trial डेटा AstraZeneca कोरोना वायरस से प्रभावी सुरक्षा देता है, तो सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया – जिसे कम से कम एक अरब खुराक का उत्पादन करने की भागीदारी है – दिसंबर तक नई दिल्ली से आपातकालीन प्राधिकरण प्राप्त कर सकता है.” उन्होंने यह भी कहा कि “शुरुआती खुराकें भारत को मिलेंगी.”

वैक्सीन के 40 मिलिनय डोज बना लिए

SII ने पहले ही इस वैक्सीन के 40 मिलिनय डोज बना लिए हैं. SII का लक्ष्य Novavax की संभावित कोरोना वैक्सीन का निर्माण भी जल्द शुरू करना है. पूनावाला ने कहा कि हम थोड़ा चिंतित थे कि यह एक बड़ा जोखिम था. उन्होंने कहा कि AstraZeneca और Novavax के shots “दोनों बहुत अच्छे लग रहे हैं”.

कोविशिल्ड को SII पुणे प्रयोगशाला में Oxford University/Astra Zeneca के एक master seed के साथ विकसित किया गया है. यूके में बना ये टीका वर्तमान में यूके, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका और अमेरिका में बड़ी प्रभावकारिता परीक्षणों में टेस्ट किया जा रहा है. चूंकि अब तक के परीक्षणों के परिणाम आशाजनक हैं, इसलिए यह बहुत संभव है कि Covishield महामारी के एक यथार्थवादी समाधान के रूप में उभर सकते हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.