J&K में 24 घंटे में मारे गए 10 आतंकी, एक एएसआई जवान शहीद

J&K में 24 घंटे में मारे गए 10 आतंकी, एक एएसआई जवान शहीद

Srinagar: जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आए दिन सुरक्षाबलों को निशाना बनाया जा रहा है. शनिवार को श्रीनगर के बाहरी इलाके पंथा चौक में आतंकियों ने सीआरपीएफ की नाका पार्टी पर हमला कर दिया. हमले के बाद फरार हुए अतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई. मुठभेड़ में 3 आतंकवादी मारे गए, वहीं, एएसआई बाबू राम शहीद हो गए हैं. उन्हें इलाज के लिए सेना के 92 बेस अस्पताल ले जाया गया था, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी.

जानकारी के मुताबिक, श्रीनगर के पंथा चौक इलाके में CRPF की एक नाका पार्टी पर तीन स्कूटी सवार अज्ञात लोगों ने अचानक से गोलीबारी की और भागने की कोशिश कर रहे थे, हालांकि उन्हें ढेर कर दिया गया. इससे पहले सर्च ऑपरेशन में अतंकियों की स्कूटी बरामद कर ली गई थी. सूत्रों के मुताबिक, तीन मिलिटेंट्स आए और करीब 30 मीटर की दूरी से सुरक्षाबलों के जी/61 नाके पर गोलियां चलाने लगे.

पंथा चौक के धोबी मोहल्ले से तीनों आतंकियों के शव बरामद किए गए हैं. एके 47 और एके 47 की दो मैग्जीन भी बरामद हुई हैं. जो आतंकी मारे गए हैं उनकी पहचान साकिब अहमद खांडे, उमर तारिक, जुबैर अहमद शेख के रूप में हुई है.

24 घंटे में मारे गए 10 आतंकी

  • 28 अगस्त को किलूरा शोपिया में हुई मुठभेड़ में 4 आतंकी मारे गए 1 ज़िंदा पकड़ा गया.
  • रात ज़दुरा पुलवामा में शुरू हुई मुठभेड़ में 3 आतंकी मारे गए.
  • 29 अगस्त रात को शुरू हुई मुठभेड़ में 3 आतंकी मारे गए.

पुलवामा में ढेर किए गए थे तीन आतंकी

जम्मू कश्मीर के पुलवामा (Pulwama) के जदुरा इलाके में शनिवार को सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 3 आतंकियों को ढेर किया. मुठभेड़ में 50RR का 1 जवान शहीद हो गया. दोनों तरफ से गोलीबारी सुबह तक जारी रही. आतंकियों के पास से एक AK-47 और दो पिस्टल बरामद हुई थीं.

सांबा सेक्टर में बीएसएफ को मिली सुरंग

वहीं इससे पहले सांबा (Samba) सेक्टर में शुक्रवार देर रात सीमा सुरक्षा बल (BSF) को बड़ी कामयाबी मिली, जहां बीएसएफ को एक सुरंग का पता चला है. जम्मू बीएसएफ आईजी एनएस जामवाल के अनुसार, यह सुरंग बॉर्डर के साथ पाकिस्तान में शुरू होती है और सांबा में खत्म होती है. यह टनल आतंकियों की घुसपैठ करवाने के लिए बनाई गई थी.

“सैंडबैग पर मिली पाकिस्तान की मार्किंग”

आईजी जामवाल ने कहा कि सैंडबैग पर पाकिस्तान की मार्किंग थी, जिससे साफ पता चलता है कि सुरंग के पूरी योजना और इंजीनियरिंग प्रयासों के साथ खोदा गया था. आईजी ने भी कहा, “पाकिस्तानी रेंजर्स और अन्य एजेंसियों की सहमति के बिना, इतनी बड़ी सुरंग का निर्माण नहीं किया जा सकता है.”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top