सांसद कड़िया मुंडा के तीन हाउस गार्ड का अपहरण, पत्थलगड़ी समर्थकों पर लगा आरोप

by

#Ranchi: भाजपा सांसद और पूर्व लोकसभा उपाध्यक्ष कड़िया मुंडा के तीन हाउस गार्ड सुबोध कुजूर, विनोद केरकेट्टा और सुयोन सुरीन का अपहरण कर लिया गया है. अपहरण का आरोप पत्थलगड़ी से जुड़े लोगों पर है. घटना की पुष्टि पुलिस मुख्यालय के एडीजी अभियान आरके मल्लिक ने की है. उन्होंने बताया कि कड़िया मुंडा के हाउस गार्ड को मुरहू थाना क्षेत्र के घाघरा में रखे जाने की सूचना है.

पुलिस मामले में कार्रवाई कर रही है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अपहृत गार्ड का हथियार के साथ अपहरण किया गया है. उन्हें ग्राम सभा ले जाया गया है. पत्थलगड़ी समर्थकों का कहना है कि सरकार यहां आये उसके बाद ही हाउस गार्ड को छोड़ा जाएगा. बताया जाता है कि लोग घाघरा, मंदरुडीह, हुडाडीह और मतगड़ा में पत्थलगड़ी कर रहे थे. पुलिस वहां पहुंची तो पत्थलगड़ी समर्थकों ने उन्हें खदेड़ दिया. बाद में पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज कर दिया और जमकर पीटा. इससे नाराज पत्थलगड़ी समर्थकों ने सांसद के तीन हाउस गार्ड को अगवा कर लिया.

Read Also  आदिवासी छात्रों को सीएम हेमंत सोरेन ने दिए ब्‍लैंक चेक! सोशल मीडिया पर चर्चा गर्म

उन्होंने बताया कि कड़िया मुंडा के हाउस गार्ड को मुरहू थाना के घाघरा में रखे जाने की सूचना है.

कैसे हुई घटना : खूंटी मुख्यालय से मात्र छह किमी दूर घाघरा में मंगलवार को पत्थलगड़ी का कार्यक्रम आयोजित किया गया था. इसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल थे. इस बीच एसपी के साथ बड़ी संख्या में पुलिस वहां पहुंची.

पुलिस अड़की के कोचांग में हुए गैंग रेप की घटना का मास्टरमाइंड जॉन जोनास तिड़ू की तलाश कर रही थी. पुलिस की ओर से इसके लिए माइक पर एलान भी किया गया. इसके बाद पत्थलगड़ी समर्थक धीरे-धीरे पुलिस के करीब पहुंच गये. घिरता देख पुलिसकर्मी पत्थलगड़ी स्थल से पीछे हट कर सांसद कड़िया मुंडा के घर से एक किमी दूर श्मशान घाट के पास पहुंच गयी. बड़ी संख्या में पत्थलगड़ी समर्थक भी वहां पहुंच गये. बचाव में पुलिस ने पत्थलगड़ी समर्थकों पर लाठी चार्ज कर दिया. पत्थलगड़ी समर्थकों ने भी पुलिस पर पथराव किया.

घटना में आधा दर्जन पत्थलगड़ी समर्थक घायल हो गये. बिरसाई मुंडा (40) के सिर में चोट लगने के बाद उसे रिम्स भेजा गया. कुछ पुलिसकर्मियों को भी आंशिक चोटें आयी. इसके बाद पुलिसकर्मी वहां से हट कर खूंटी आ गये. इस घटना के बाद अाक्रोशित करीब 300 पत्थलगड़ी समर्थकों ने कड़िया मुंडा के घर पर हमला कर दिया.

Read Also  Weather Update: भारत के इन राज्‍यों में आज भी होगी बारिश, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

कमरों का दरवाजा खोल ली तलाशी, छत पर भी गये पत्थलगड़ी समर्थक

क्या हुआ सांसद के घर पर

पुरुष से अधिक थी महिलाओं की संख्या : कड़िया मुंडा के घर पर हमला करनेवाले पत्थलगड़ी समर्थकों में आधे से अधिक महिलाएं थी.करीब 300 की संख्या में पहुंचे पत्थलगड़ी समर्थकों ने सबसे पहले कड़िया मुंडा के घर में तैनात हाउस गार्ड को कब्जे में कर लिया. उन्हें कुछ सोचने का मौका ही नहीं मिला. उन्होंने तीन पुलिसकर्मी सुबोध कुजूर, विनोद केरकेट्टा व सियोन सुरीन के साथ मारपीट की.

तीनों की इंसास राइफल छीन ली. हवलदार बैजू उरांव घर के अंदर थे, इस कारण वह बच गये. पत्थलगड़ी समर्थकों का उग्र रूप देख कर वह बाहर नहीं निकला. इसके बाद पत्थलगड़ी समर्थकों ने   सांसद के अनाज घर और अन्य कमरों का दरवाजा खोल कर तलाशी ली.

Read Also  आदिवासी छात्रों को सीएम हेमंत सोरेन ने दिए ब्‍लैंक चेक! सोशल मीडिया पर चर्चा गर्म

फिर घर की छत पर चढ़ गये. घटना के समय सांसद की दोनों बहू घर में मौजूद थी. बगल के घर में सांसद की भाभी व उनके परिवार के लोग मौजूद थे. पत्थलगड़ी समर्थकाें ने सांसद के परिजनों को धमकी दी कि अगर पुलिस को सूचना दी, तो अंजाम बुरा होगा. इसके बाद पत्थलगड़ी समर्थक तीन पुलिसकर्मी को कब्जे में लेकर घाघरा की ओर चले गये.

परिजनों ने दी सूचना 

पत्थलगड़ी समर्थकों के चले जाने के बाद परिजनों ने मामले की सूचना सांसद कड़िया मुंडा को मोबाइल पर दी. सांसद के साथ उनके दोनों बेटे जगन्नाथ व अमरनाथ को भी सूचना दी गयी. सभी दिल्ली में हैं.

इसके बाद सांसद के दोनों बेटों ने खूंटी पुलिस के डीएसपी को मामले की जानकारी फोन के जरिये दी. पर तीन घंटे की देरी के बाद शाम छह बजे एसपी और डीसी के नेतृत्व में पुलिसकर्मी सांसद के घर पहुंचे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.