नक्सलियों के गढ़ में सामुदायिक पुलिसिंग के तहत लगा जनता दरबार

by

#SIMDEGA : झारखंड में सिमडेगा जिले के उग्रवाद प्रभावित बानो प्रखंड के बेड़ाईरगी पंचायत व बांकी पंचायत के डलिया मर्चा में पुलिस प्रशासन ने पहली बार सामुदायिक पुलिसिंग के तहत सोमवार को जनता दरबार लगाया. पहाड़ के उपर बसे डलिया मर्चा गांव में पुलिस अधीक्षक (एसपी) संजीव कुमार ने लोगों की समस्या से अवगत हुये तथा कहा कि समस्या का समाधान होगा.

कार्यक्रम में लोगों के बीच सामुदायिक पुलिसिंग योजना के तहत सामग्री का वितरण किया गया. इसमें बच्चो के स्कूल बैग, खेलकुद सामग्री, सोलर लाईट, गैस कनेक्शन व महिला समूह के सदस्यों के बीच खाना बनाने संबंधि सामग्री का वितरण किया गया. कार्यक्रम में लोगों ने गांव की समस्या पानी, पेयजल, विजली व सड़क समस्या, अस्पताल की समस्या उठाई.

कार्यक्रम का उद्घाटन एसपी संजीव कुमार, अभियान एसपी निर्मल गोप, पीएचडी के कार्यपालक अभियंता मारकंडे, बीडीओ समीर खलखो व सीओ मनींद्र भगत, डीएसपी अमित कुमार व प्रशिक्षु डीएसपी विजय कुशवाहा ने दीप प्रज्वलित कर किया. कार्यक्रम में डालिया मर्चा के महिला समूह ने स्वागत गान प्रस्तुत कर माला पहना कर अतिथियों का स्वागत किया.

Read Also  कमलेश राम अपने घर पर ही किया योगा

कार्यक्रम में एसपी ने कहा कि नक्सलियों का जल्द खात्मा किया जायेगा. ग्रामीण किसी के बहकावे में न आये, पुलिस हर संभव सहयोग करेगी. उन्होंने कहा कि प्रशासन व ग्रामीण मिल कर गांव व क्षेत्र का विकास करेंगे. इसके लिये ग्रामीणो को जागरूक होने की आवश्यकता है. गांव में बुनियादी सुविधा उपलब्ध करा कर ही उग्रवाद को समाप्त किया जा सकता है.

महिलायें हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है. क्षेत्र में खुशहाली आने से भी उग्रवाद कम होगा. एसपी ने कहा कि पलायन यहां की सबसे बड़ी समस्या है. यहां के लोग पलायन ना करके यहीं रोजगार के लिये प्रयास करे. बाहर काम करने जाने वाले युवा श्रम विभाग में पंजीयन करा कर ही बाहर काम करने जा़ये़. किसी प्रकार का हादसा होने पर विभाग के द्रारा मुआवाजा के रूप में एक लाख देने का प्रावधान है.

Read Also  सुदेश महतो का जन्मदिन आजसू ने सेवा दिवस के रूप में मनाया

अभियान एसपी ने कहा कि पुलिस प्रशासन से जुड़ कर गांव का विकास करे. पीएलएफआई व एमसीसी गांव का विकास नहीं कर सकते है. उग्रवादियों से ग्रामीणो का भला नहीं होगा. उग्रवादी गांव के विकास में बाधक हैं.

कार्यक्रम को एसडीपीओ अमित कुमार, प्रशिक्षु डीएसपी विजय कुमार कुशवाहा, पुलिस निरीक्षक अलोक कुमार, बीडीओ समीर खलखो, सीओ मनींद्र भगत, मुखिया हेलेना कडुंलना, मुखिया सिलवंती तोपनो के आलवा अन्य लोगों ने भी संबोधित किया.

इस अवसर पर बानो थाना प्रभारी जोन मुर्मु, महाबुआंग थाना प्रभारी रविंद्र कुमार, कोलेबिरा थाना प्रभारी लक्ष्मण राम, पुर्व प्रमुख जोर्ज महतो, अजित तोपनो, बीपीएम सबीहा नाज, बीटीएमसोसन प्रतिमा कुजुर, संतोष साहु, इलियाजर कडुंलना, नंदकिशोर सिंह, राजेश सिंह, मधुसुधन सिंह, महेश सिंह, रामनाथ सिह, मंगरनाथ सिंह, बालगोविंद सिंह, बहुरन सिंह, स्टेफन मड़की के आलवा अन्य लोग उपस्थित थे.

संचालन परशुराम सिंह व धन्यवाद ज्ञापन नंदकिशोर सिंह ने किया. बॉक्स सिमडेगा: एसपी संजीव कुमार व अन्य पुलिस पदाधिकारी को कार्यक्रगम स्थल पर जाने के लिये तीन किलोमीटर बाइक का सहारा लेना पड़ा. रास्ता पथरीला होने के कारण कई स्थानों में एसपी व अन्य पुलिस पदाधिकारी को पैदल भी चलना पड़ा. डलियामर्चा तक पहुंचने के लिए सड़क नही है. पहाड़ो के उपर बसे गांव तक पहुंचने के लिए दो रास्ते हैं. एक भुरसाबेड़ा से होकर जाता है तथा दुसरा महुआटोली रास्ते गांव तक पहुंचा जा सकता है. दोनों ही रास्ता काफी दुर्गम है. दोनों रास्ते में सड़क नहीं किसी प्रकार पंगडडी का निर्माण ग्रामीणों ने अपासी सहोयग से किया है.

Read Also  आजसू संकल्प दिवस के रूप में मनाएगी पार्टी की स्थापना दिवस, 2600 यूनिट रक्तदान का लक्ष्य

ग्रामीण नंदकिशोर ने बताया कि 65 हजार आपसस में ही चंदा कर सड़क का निर्माण किया गया है. गांव की अबादी लगभग तीन सौ है. यहां मुंडा व रौतिया जाति के पचास परिवार रहते हैं. गांव में बुनियादि सुविधा का अभाव है. बच्चों को भी हाई स्कूल की पढ़ाई करने के लिए दस किलोमीटर दूर बांकी व जीतुटोली जाना पड़ता है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.